जागरण संवाददाता, हरिद्वार। पथरी क्षेत्र में एक युवक की हत्या कर शव जलाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। युवक एक सप्ताह से लापता चल रहा था। रविवार को पथरी के जंगल से उसका अधजला शव बरामद हुआ। पुलिस और एसओजी की टीमों ने हर एंगल से छानबीन शुरू कर दी है। कुछ सुराग भी हाथ लगे हैं। सोमवार तक पूरे मामले का पर्दाफाश होने की उम्मीद है।

पुलिस के मुताबिक, रानीमाजरा गांव निवासी संजीत पदार्था स्थित पतंजलि फूडपार्क कंपनी में काम करता था। एक सप्ताह पहले वह डयूटी के लिए घर से निकला था। रात तक घर वापस नहीं लौटा तो परिवार को चिंता हुई। काफी तलाश करने के बाद भी जब संजीत का कुछ पता नहीं चल पाया, तब परिवार ने पुलिस को सूचना दी। गुमशुदगी दर्ज होने के बाद से ही पुलिस व परिवार वाले उसकी तलाश में जुटे थे। रविवार को पथरी के जंगल में कुछ ग्रामीणों ने अधजला शव देखकर पुलिस को सूचना दी। जिस पर एसएचओ पथरी अमर चंद्र शर्मा टीम सहित मौके पर पहुंचे और जानकारी जुटाई। युवक की शिनाख्त एक सप्ताह से लापता चल रहे संजीत के रूप में हुई। प्रथम दृष्ट्या हत्या करने के बाद शव जलाकर खुर्द-बुर्द करने का प्रयास किया गया था। 

संजीत एक सप्ताह से लापता था, उसकी हत्या कब, किसने और क्यों की, इस बारे में पथरी की पुलिस और रुड़की व हरिद्वार एसओजी की टीम पड़ताल में जुट गई हैं। एसपी देहात प्रमेंद्र डोबाल ने बताया कि शुरूआती जांच में हत्या की बात सामने आई है। शव का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। हर एंगल से मामले की छानबीन की जा रही है, जल्द ही घटना का राजफाश कर लिया जाएगा।

गांव से जुड़ रहे हत्या के तार

पुलिस व एसओजी की टीमों ने संजीत के मोबाइल की कॉल डिटेल खंगाली। परिवार, ग्रामीणों और फैक्ट्री में उसके साथ काम करने वालों से भी पूछताछ की, जिससे कुछ अजीब और अतरंगी जानकारियां सामने आई। यह भी पता चला कि हत्या के तार रानीमाजरा गांव में ही मौजूद हैं। पुलिस व एसओजी ने कुछ संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ भी की है। इससे हत्या के पीछे की तस्वीर काफी हद तक साफ भी हो चुकी है। देर रात तक पुलिस कड़ी से कड़ी जोड़ने में लगी थी। 

यह भी पढ़ें- Sagar Dhankar Murder Case: पहलवान सुशील को हरिद्वार में ढूंढ रही दिल्ली पुलिस, सागर धनखड़ हत्याकांड में है फरार

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें