रुड़की, जेएनएन। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि कुछ लोगों ने रुड़की को विकास से तीन साल पीछे धकेलने का काम किया। रुड़की के मूल स्वरूप को बर्बाद करने की कोशिश की, लेकिन न्यायालय और प्रदेश सरकार ने रुड़की के मूल स्वरूप की रक्षा की है। जिन निकायों में पिछले साल चुनाव हुए, वहां पर विकास के लिए बजट जारी हो चुका है, लेकिन रुड़की के साथ नाइंसाफी हुई। इसको ठीक करना है। उन्होंने कहा कि महापौर ऐसा होना चाहिए, जो मुख्यमंत्री के बेडरूम तक जा सके। ऐसा महापौर नहीं चाहिए, जो कि विकास के लिए मंत्रालय तक भी नहीं जाता हो। 

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बीटीगंज में भाजपा के महापौर पद के प्रत्याशी मयंक गुप्ता के समर्थन में आयोजित चुनावी सभा में कहा कि रुड़की की पहचान देश ही नहीं विदेशों में भी है। इस पहचान को बरकरार रखना होगा। देश की तमाम समस्याएं हल हो रही हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने गन्ना किसानों को दो सौ करोड़ रुपये का भुगतान किया है।

यह भी पढ़ें: जन हस्तक्षेप संगठन ने वन कानून के खिलाफ खोला मोर्चा, हस्ताक्षर अभियान शुरू Dehradun News

इकबालपुर चीनी मिल का बकाया भुगतान के लिए पहली किश्त जारी हो चुकी है। शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि रुड़की शहर के विकास के लिए सरकार ने एक खाका तैयार किया है। चुनावी सभा को उप्र के मंत्री कपिलदेव अग्रवाल, विधायक प्रदीप बत्रा भी मौजूद रहे। 

यह भी पढ़ें: युवा कांग्रेस व एनएसयूआइ के कार्यकर्ताओं की पुलिस से हुई झड़प

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021