मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

हरिद्वार, जेएनएन। दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित की अस्थियां वैदिक मंत्रोचारण के साथ पूरे रीति-रिवाज और धार्मिक कर्मकांड के बाद गंगा में विसर्जित की गईं। उनके बेटे संदीप दीक्षित ने उनकी अस्थियों को ब्रह्मकुंड स्थित हरकी पैड़ी पर गंगा में प्रवाहित किया। इस दौरान स्थानीय कांग्रेस नेता भी मौजूद रहे। 

बुधवार को करीब सवा बारह बजे दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित की अस्थियों को लेकर उनके बेटे संदीप दीक्षित, बेटी लतीफा दीक्षित, नातिन आइफा और पूर्व मंत्री जतिन प्रसाद ब्रह्मकुंड स्थित हरकी पैड़ी पहुंचे। यहां उनके पुरोहित लोकेश खेरवाल और अखिलेश खेरवाल की देखरेख में पंडित अनिल सिखौला ने धार्मिक कर्मकांड संपन्न कराया। धार्मिक पूजा-अर्चना और पूरे विधि-विधान के साथ बेटे संदीप दीक्षित ने मां शीला दीक्षित की अस्थियों को गंगा में विसर्जित किया। 

अस्थियां विसर्जित करने के बाद उनके पुत्र संदीप दीक्षित ने कहा कि वास्तव में देश ने उनकी मां के रूप में एक बड़े नेता को खो दिया है। हम आज मां गंगा से प्रार्थना करते हैं कि वह उनकी मां को अपने चरणों में स्थान प्रदान करें। इस मौके पर गंगा सभा के अध्यक्ष प्रदीप झा, महामंत्री तनमतय वशिष्ट, पवन खेरा, महानगर कांग्रेस अध्यक्ष संजय अग्रवाल, पूर्व पालिकाध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी,  पुरुषोत्तम शर्मा, संजय पालीवाल, रवि कश्यप, अनिल चौधरी, विमला पांडेय, अरविंद शर्मा, कैलाशचंद, बीएस तेजियान आदि मौजूद रहे। 

यह भी पढ़ें: हिंदू सेवा मंडल जोधपुर ने 387 लावारिस शवों की अस्थियां गंगा में की विसर्जित

यह भी पढ़ें: स्वामी सत्यमित्रानंद को षोडशी पर जनसेवा के संकल्प के साथ दी श्रद्धांजलि

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड के पूर्व राज्यपाल सुदर्शन अग्रवाल का निधन, एक दिवसीय राजकीय शोक घोषित

Posted By: Raksha Panthari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप