जागरण संवाददाता, देहरादून। Uttarakhand Weather Update उत्तराखंड के दो जिलों में बादल फटने से काफी नुकसान हुआ है। पहली घटना रुद्रप्रयाग जिले के नरकोटा की है, जहां बादल फटने से 12 घरों में मलबा घुस गया, जबकि खांकरा में एक ढाबा बह गया। बदरीनाथ हाइवे नरकोटा और खांकरा के बीच कई स्थानों पर मलबा आने से क्षतिग्रस्त हो गया है। वहीं, अतिवृष्टि से एक बुलेरो वाहन और मोटरसाइल की भी हाइवे के किनारे धस कर नीचे खाई में जा गिरी। इन घटनों में किसी भी प्रकार की जन हानि की सूचना नहीं है। दूसरी ओर उत्तरकाशी के चिन्यालीसौड़ में कुमराड़ा और बल्डोगी गांव के पास बादल फटा। कुमराड़ा गांव में एक मकान पूरी तरह जमींदोज हुआ, जिसमें दो भैंस और एक बकरी की मौत हुई। चार मकान आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हुए और खेतों को भी भारी नुकसान हुआ।

सीएम ने लिया बादल फटने की घटनाओं का संज्ञान 

वहीं, बादल फटने की घटनाओं का सीएम ने संज्ञान लिया। उन्होंने संबंधित जिलाधिकारियों से फोन पर जानकारी ली और प्रभावितों को तुरंत राहत के साथ ही बिना देरी के सहायता राशि देने के निर्देश दिए। सीएम ने कहा कि दोनों जिलाधिकारियों को स्थिति पर लगातार नजर बनाने के निर्देश दिए हैं। लोक निर्माण विभाग, एनएच और बीआरओ को आदेश दिए गए हैं कि जो मार्ग बंद हो गए हैं, उन्हें तत्काल खुलवाया जाए, जिससे जनता को परेशानी न उठानी पड़े।  

रुद्रप्रयाग में बादल फटने से 12 घरों में घुसा मलबा 

रुदप्रयाग से आठ किमी श्रीनगर की ओर बदरीनाथ हाइवे के पास स्थित नरकोटा गांव के ठीक ऊपर सैड बस्ती में बादल फटने की घटना से मलबा गांव में 12 घरों में घुस गया। मलबा दो धाराओं में आया, एक गांव में घुस गया, जबकि दूसरी धार गांव से बीस मीटर दूर बही। जैसे ही बादल फटने की आवाज आई सभी लोग सुरक्षित स्थानों पर चले गए। मकान की नींव भी क्षतिग्रस्त हो गई। 

उत्तरकाशी में एक घर जमींदोज 

उत्तरकाशी में शाम करीब तीन बजे के करीब चिन्यालीसौड़ और डुंडा ब्लाक क्षेत्र में मूसलाधार बारिश शुरू हुई। चिन्यालीसौड के कुमराड़ा गांव के निकट चुल्याणी तोक के आसपास शाम चार बजे से लेकर साढ़े चार बजे के बीच भारी बारिश हुई। इसका उफान कुमराड़ा गांव में पहुंचा। मलबा और पानी ग्रामीणों के घरों के अंदर घुसने से गांव में अफरातफरी मची। जान बचाने के लिए ग्रामीण सुरक्षित स्थानों की ओर भागे।

ग्राम प्रधान विनाद पुरसोढ़ा ने बताया कि बादल फटने के कारण कुमराड़ा गांव खतरे की जद में आ गया है। गांव में दर्जनों ग्रामीणों आंगन, शौचालय, रास्ते, विद्युत लाइन, पेयजल संयोजन ध्वस्त हो गए हैं। कुमराड़ा के क्षेत्र पंचायत सदस्य सुनील कुमार का मकान जमीदोज होने के कारण उनकी दो भैंस और एक बकरी दबकर मर गई है। इसके अलावा अन्य घरों को भी नुकसान पहुंचा। 

उत्तराखंड में पिछले चार दिनों से मौसम का मिजाज बदला हुआ है। पर्वतीय क्षेत्रों में बादलों का डेरा है। हालांकि, ज्यादातर इलाकों में सुबह धूप खिलने के बाद शाम को मौसम बदल जा रहा है। रविवार को भी दोपहर बाद ज्यादातर इलाकों में बादल छा गए और चोटियों पर हिमपात हुआ। चमोली में देर शाम कई जगह ओले गिरे। जबकि, निचले इलाकों में बूंदाबांदी हुई।

कुमाऊं में अल्मोड़ा, चंपावत, नैनीताल व बागेश्वर में मौसम सामान्य बना रहा। ऊधमसिंह नगर में बादल छाए रहे। पिथौरागढ़ में उच्च हिमालयी क्षेत्र में भारी ओलावृष्टि हुई। मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक, सोमवार को देहरादून, हरिद्वार, टिहरी, पौड़ी, चमोली, अल्मोड़ा, बागेश्वर, चंपावत और पिथौरागढ़ में बारिश और ओलावृष्टि हो सकती है। जबकि, कहीं-कहीं तेज हवाएं चलने और आकाशीय बिजली गिरने को लेकर यलो अलर्ट जारी किया गया है।

विभिन्न शहरों का तापमान

  • शहर-----------अधिकतम---न्यूनतम
  • देहरादून---------35.2-----------21.7
  • उत्तरकाशी------30.0----------18.4
  • मसूरी------------21.3-----------13.4
  • टिहरी------------24.0-----------13.8
  • हरिद्वार---------37.9-----------21.0    
  • जोशीमठ--------25.2-----------11.0
  • पिथौरागढ़-------25.3-----------13.6
  • अल्मोड़ा---------30.0-----------14.1
  • मुक्तेश्वर--------20.4-----------12.7  
  • नैनीताल---------24.0-----------15.3
  • यूएसनगर-------34.8-----------21.3
  • चंपावत---------26.3-----------11.2

यह भी पढ़ें-Uttarakhand Weather Update: पहाड़ों पर आकाशीय बिजली गिरने और ओलावृष्टि के आसार, यलो अलर्ट जारी

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप