राज्य ब्यूरो, देहरादून। केंद्रीय कपड़ा एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि उत्तराखंड में स्थानीय आर्गेनिक उत्पादों को प्रोत्साहित करने के लिए एक से सात अगस्त तक प्रत्येक जिले में हैंडलूम मेलों का आयोजन किया जाए। इससे स्थानीय उत्पादों को जोड़ा जाए। इसी प्रकार एक से 15 अगस्त तक टेक्सटाइल मेलों का आयोजन किया जाए। हर जिले के स्थानीय उत्पादों को चिह्नित कर इन मेलों में प्रदर्शित किया जाए। इन्हें ई-कामर्स से भी जोड़ा जाए। उन्होंने कहा कि वह स्वयं इन टेक्सटाइल मेलों में आएंगी।

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने सोमवार को उद्योग भवन, नई दिल्ली में केंद्रीय कपड़ा एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी से मुलाकात की। इस दौरान केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उत्तराखंड में क्राफ्ट टूरिज्म विलेज स्थापित करते हुए इसे होम स्टे से जोड़ा जाए। दोनों के बीच उत्तराखंड की प्रसिद्ध ऐपण कला पर भी चर्चा हुई। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मधुबनी आर्ट की तर्ज पर ऐंपण कला पर फोकस किया जाना चाहिए। इसे टेक्सटाइल से जोड़ते हुए निर्यात पर विशेष ध्यान दिया जाए।

उत्तराखंड में वन स्टाप कारीगर मेलों का भी आयोजन किया जाए। इसमें स्थानीय कारीगरों को प्रशिक्षित करते हुए नई जानकारियां दी जाएं। मुख्यमंत्री ने केंद्रीय मंत्री को प्रदेश में शुरू की गई मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के बारे में जानकारी दी। उन्होंने केंद्रीय मंत्री को प्रदेश में संचालित महिला एवं बाल विकास से संबंधित विभिन्न योजनाओं के बारे में बताया।

केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि वन स्टाप सेंटर महत्वपूर्ण योजना है। इसका लाभ हर जरूरतमंद को मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि निर्भया योजना से संबंधित राज्य सरकार के प्रस्तावों को मंजूरी दी जाएगी। इस दौरान मुख्य सचिव ओमप्रकाश, सचिव अमित नेगी, राधिका झा व शैलेश बगोली भी उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें- केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से उत्तराखंड के सीएम तीरथ रावत ने की मुलाकात, किया ये अनुरोध

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Raksha Panthri