संवाद सूत्र, डोईवाला: डोईवाला कोतवाली के अंतर्गत थानो-भानियावाला मार्ग पर सेन एक कार पेड़ से जा टकराई। दुर्घटना में दो व्यक्तियों की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि कार सवार चार घायल हो गए। इन घायलों का हिमालयन हास्पिटल जौलीग्रांट में उपचार चल रहा है। सभी लोग एक ही परिवार के बताए जा रहे हैं। दुर्घटना में जान गंवाने वाले एक दून के प्रतिष्ठित स्कूल स्कालर होम में शिक्षक थे व दूसरे सेना से रिटायर्ड मेजर थे। दुर्घटना के कारणों का पता नहीं चल पाया है।

पुलिस के मुताबिक रविवार दोपहर देहरादून में अलग-अलग जगह रहने वाले एक परिवार के छह सदस्य कार में देहरादून से रायपुर होते हुए भानियावाला में अपने रिश्तेदार के घर आ रहे थे। थानो-भानियावाला रोड पर सेन चौकी के समीप कार अनियंत्रित होकर जंगल में खड़े एक पेड़ से टकरा गई। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि कार का अगला हिस्सा बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। स्थानीय नागरिकों की सूचना पर कोतवाल सूर्य भूषण नेगी व वरिष्ठ उप निरीक्षक राज विक्रम ङ्क्षसह पंवार व जौलीग्रांट पुलिस चौकी प्रभारी विनोद कुमार टीम के साथ मौके पर पहुंचे। दुर्घटना में विनोद भट्ट (56 वर्ष) पुत्र बच्ची राम भट्ट निवासी 256 चुक्खू मोहल्ला देहरादून व मदन मोहन भट्ट (80 वर्ष) पुत्र गयानंद भट्ट निवासी तेग बहादुर रोड लेन नंबर तीन देहरादून निवासी ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। पुलिस ने कार में फंसे चार अन्य व्यक्तियों को बाहर निकाल कर 108 आपात सेवा के जरिये हिमालयन हास्पिटल जौलीग्रांट पहुंचाया। जिनमें नरोत्तम भट्ट (58 वर्ष) पुत्र चेतराम भट्ट निवासी मकान नंबर 29 विवेकानंद ग्राम फेस टू जोगीवाला, भगवती प्रसाद भट्ट (47 वर्ष) पुत्र स्व. मनीराम भट्ट व कीर्ति राम भट्ट (77 वर्ष) पुत्र दामोदर भट्ट निवासी तेग बहादुर रोड थाना डालनवाला देहरादून तथा रमेश चंद्र भट्ट (67 वर्ष) पुत्र मक्खन लाल भट्ट निवासी सारथी विहार देहरादून शामिल हैं। जौलीग्रांट चौकी प्रभारी विनोद कुमार ने बताया कि कार नरोत्तम भट्ट चला रहे थे। यह सभी लोग एक ही परिवार के सदस्य हैं और भानियावाला में अपने रिश्तेदार के घर आ रहे थे। भानियावाला निवासी अमरीश भट्ट ने बताया कि मृतक विनोद भट्ट स्कालर होम देहरादून में शिक्षक थे। उनके एक पुत्र व दो पुत्रियां हैं। जबकि मृतक मदन मोहन भट्ट सेना से मेजर पद से सेवानिवृत्त थे।

पहले भी हो चुकी हैं दुर्घटनाएं

जौलीग्रांट निवासी सामाजिक कार्यकत्र्ता रवि मनवाल ने बताया कि सैन चौकी से आगे जो पहली पुलिया पड़ती है। उस जगह पर कई बार पहले भी दुर्घटनाएं घट चुकी हैं। थानो से भानियावाला की ओर आते वक्त पुलिया के पास थोड़ा ढाल है। इसलिए कई बार चालक सड़क का अंदाजा नहीं लगा पाता है। उन्होंने उक्त स्थान पर संकेतक अथवा ब्रेकर लगाने की मांग की है।

यह भी पढ़ें- देहरादून में देर रात सड़क हादसे में बाइक सवार की मौत Dehradun News

 

Edited By: Raksha Panthri