जागरण संवाददाता, देहरादून: शहर के मुख्य चौराहों पर लगने वाले जाम से मुक्ति दिलाने के लिए यातायात निदेशालय की ओर से पांच चौराहों को एडेप्टिव ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम (एटीसीएस) से जोड़ने की योजना थी। लेकिन अब तक केवल सहस्रधारा व दिलाराम चौक पर ही यह सिस्टम शुरू हो पाया है। दर्शनलाल चौक, किशननगर चौक व फव्वारा चौक में यह सिस्टम शुरू ही नहीं हो पाया है। इससे इन चौराहों पर ट्रैफिक लाइन संबंधी समस्या बरकरार है।

शहर में कई चौराहे/तिराहे ऐसे हैं, जहां हर लेन पर यातायात का दबाव समान नहीं रहता है। इससे अधिक यातायात वाली लेन को ग्रीन सिग्नल काफी कम वक्त के लिए मिलता है तो कम यातायात वाली लेन पर बेवजह सिग्नल ग्रीन रहता है। इसको ध्यान में रखते हुए यातायात निदेशालय ने शहर के दिलाराम चौक, दर्शनलाल चौक, किशननगर चौक, फव्वारा चौक और सहस्रधारा चौक पर अडेप्टिव ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम (एटीसीएस) की व्यवस्था की थी। जिससे शहर में यातायात से लोग को कम से कम जूझना पड़े।

यह भी पढ़ें- हरिद्वार में केरल के राज्यपाल, भूमानंद अस्पताल के कैथ लैब, 50 बेड की नवनिर्मित इमरजेंसी का किया लोकार्पण

इस व्यवस्था के तहत इन चौराहों पर यातायात को सेंसर की सहायता से चलाने की योजना है। जिस लेन पर यातायात का दबाव अधिक होगा, उस लेन के लिए सेंसर खुद ही सिग्नल को ग्रीन कर देगा। इसी तरह कम यातायात वाली लेन को यह सिस्टम रेड सिग्नल दे देगा। यातायात निदेशक डीआइजी मुख्तार मोहसिन ने बताया कि दो चौराहों पर यह व्यवस्था शुरू कर दी गई है, लेकिन तीन चौराहों पर व्यवस्था अभी शुरू नहीं की जा सकी है। इसके लिए प्रयास किए जा रहे हैं। सभी चौराहों का सर्वे करने के बाद ही यहां पर अडेप्टिव ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम शुरू किया जाएगा।

यह भी पढ़ें-भर्ती होने पर कैशलेस चिकित्सा सुविधा, उत्तराखंड के सूचीबद्ध अस्पतालों में असीमित धनराशि तक मिलेगा उपचार

Edited By: Sumit Kumar