जागरण संवाददाता, विकासनगर: तहसील में सात सूत्रीय मांगों को लेकर 13 दिन से बेमियादी धरने पर बैठे किसानों ने मंगलवार को परिसर में सफाई की। इस दौरान आंदोलनकारियों ने चेतावनी दी कि यदि उनकी मांगों पर शीघ्र कार्रवाई नहीं हुई तो व्यासी पावर प्रोजेक्ट में चल रहे कार्य को बंद कराया जाएगा। तहसील परिसर में किसान एकता मोर्चा के बैनर तले चल रहे धरने में आंदोलनकारियों ने मांग दोहराई कि वर्ष 2016 से हथियारी परियोजना के विस्थापितों की अनुग्रह राशि के बकाया का भुगतान मय ब्याज शीघ्र दिया जाए।

सरकार गन्ना व धान का भुगतान जल्द करे। ग्राम पंचायत मटोगी की चरागाह भूमि पर हुए कब्जे को जल्द हटाया जाए। डाकपत्थर से लेकर कुल्हाल तक शक्ति नहर के दोनों तरफ ऊंची रेङ्क्षलग लगाई जाए। हथियारी की व्यासी परियोजना क्षेत्र अंतर्गत खाली कराई जा रही दुकानों व मकानों की एवज में ग्रामीणों का शीघ्र विस्थापन किया जाए। परियोजना निर्माण के दौरान विस्फोट से क्षतिग्रस्त मकानों का शीघ्र उचित मुआवजा दिया जाए। किसानों ने कहा कि धरने के 13 दिन बाद भी उनकी मांग को नहीं सुना जा रहा है। उन्होंने बुधवार से पावर प्रोजेक्ट में चल रहे कार्यों को बंद कराने की चेतावनी दी।

यह भी पढ़ें- तीरथ सिंह रावत ने कहा-मैंने कभी कल्पना नहीं की थी कि कभी इस जगह पहुंच सकता हूं

धरने पर भारत संवैधानिक अधिकार संरक्षण मंच के राष्ट्रीय संयोजक दौलत कुंवर, स्वराज चौहान, लक्ष्मी शर्मा, जगबीर शर्मा,  विमल तोमर, दौलत सिंह, आशा देवी, श्याम सिंह, रोहित तोमर, नारायण सिंह, नरेश, कन्हैया सिंह, संतराम, रामपाल सिंह, अमीरचंद, जयपाल सिंह, नीरज कुमार आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें- CM Tirath Singh Rawat Profile: जानें कौन हैं तीरथ सिंह रावत जो बने उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021