जागरण संवाददाता, देहरादून: एक व्यक्ति ने पहले उधार मांगकर पीडि़त के सात लाख रुपये हड़प लिए और फिर प्लाट दिलाने के नाम पर उससे 10 लाख ठग लिए। डीजीपी अशोक कुमार के निर्देश पर प्रेमनगर थाना पुलिस ने मामले में दंपती समेत पांच आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।

दीपक कुमार निवासी ग्राम घरगांव देवीखाल पौड़ी गढ़वाल ने डीजीपी को दिए शिकायती पत्र में बताया कि दिलीप सिंह बिष्ट निवासी नारायण विहार कालोनी कोटद्वार पौड़ी गढ़वाल उनके परिचित हैं। दिलीप ने किसी काम के लिए उनसे सात लाख रुपये उधार लिए थे। दिलीप ने उसे कहा कि वह धनराशि दो-तीन महीने में लौटा देगा। इसी दौरान दुर्घटना में दीपक का हाथ टूट गया। दीपक ने जब दिलीप बिष्ट से रुपये वापस मांगे तो आरोपित ने कुछ समय मांगा। आरोपित ने दीपक कुमार को बताया कि उसके दोस्त भूपेंद्र सिंह और सन्नी ने प्रेमनगर के ईष्ट होपटाउन क्षेत्र में प्लाटिंग की है। इसलिए वह उसे वहां एक प्लाट दिला देगा।

दीपक प्लाट लेने के लिए तैयार हो गया। प्लाट खरीदने के लिए उसने मई 2020 को दिलीप की पत्नी के खाते में अग्रिम धनराधि के तौर पर चार लाख रुपये ट्रांसफर कर दिए। इसके बाद सितंबर 2020 में आरोपित ने प्लाट की फर्जी रजिस्ट्री करवाकर उससे 10 लाख रुपये और ले लिए। कुछ समय बाद दीपक अपने प्लाट में गया तो वहां एक व्यक्ति मौजूद था, जिसने बताया कि वह प्लाट का मालिक है।

यह भी पढ़ें- जानिए जेल में बंद जितेंद्र नारायण का क्या ट्वीट हो रहा है वायरल, किस बात की लगा रहे हैं गुहार

इसके बाद दीपक कुमार ने जब आरोपित दिलीप से रुपये वापस मांगे तो आरोपित ने केवल चार लाख रुपये लौटाए और बाकी रकम लौटाने से मना कर दिया। थानाध्यक्ष कुलदीप पंत ने बताया कि आरोपित दिलीप सिंह बिष्ट व उसकी पत्नी बबली बिष्ट निवासी नारायण विहार कालोनी कोटद्वार पौड़ी गढ़वाल, भूपेंद्र सिंह व सन्नी शर्मा दोनों निवासी प्रेमनगर और कल्लू उर्फ भरत निवासी श्यामपुर अंबीवाला के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

यह भी पढ़ें- विधानसभा चुनाव के मद्देनजर पुलिस की कार्रवाई, दो के खिलाफ गुंडा तो दो पर गैंगस्टर की कार्रवाई

Edited By: Sumit Kumar