डोईवाला (देहरादून), जेएनएन। स्वामी राम हिमालयन विश्वविद्यालय के प्लास्टिक सर्जरी विभाग ने कटे होंठ व तालू की बीमारी से पीड़ि‍त एक बच्ची की सफल सर्जरी की। 

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद निवासी दंपती की बच्ची जन्म से ही कटे होंठ व तालू की बीमारी से पीडि़त थी। बच्ची का ऊपरी होंठ कटा हुआ था व नाक फैली हुई थी। परेशान स्वजनों ने हिमालयन अस्पताल में स्माइल ट्रेन के प्लास्टिक सर्जरी विभाग में डॉ. संजय द्विवेदी को दिखाया। डॉ. संजय द्विवेदी बच्ची की जांच के साथ दंपती की काउंसिलिंग की। सफल ऑपरेशन के मात्र दो दिन बाद बच्ची को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।

बच्ची के सातवें दिन टांके निकाल दिए गए। बच्ची में अब किसी तरह की कोई विकृति नहीं है। डॉ. संजय द्विवेदी ने बताया कि हिमालयन अस्पताल में अंतरराष्ट्रीय समाजसेवी संस्था स्माइल ट्रेन के सौजन्य से कटे होंठ व तालू वाले बच्चों का निश्शुल्क ऑपरेशन किया जाता है। उन्होंने बताया कि इस ऑपरेशन को सफल बनाने में डॉ. शिरिषा, डॉ. मनु राजन, डॉ. वीना अस्थाना, वीनस व भारती का भी विशेष सहयोग रहा। 

कॉस्मेटिक ही नहीं प्लास्टिक सर्जरी में कई शल्य चिकित्सा

राष्ट्रीय प्लास्टिक सर्जरी दिवस के उपलक्ष्य में श्री महंत इंदिरेश अस्पताल के प्लास्टिक सर्जरी विभाग की ओर से जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से शोधार्थियों ने प्लास्टिक सर्जरी की विविध विधाओं से जुड़े सवाल किए जिस पर विशेषज्ञों ने अपने अनुभव साझा किए।

कार्यक्रम का उद्घाटन एसजीआरआर मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. अनिल कुमार मेहता, अस्पताल के चिकित्साधीक्षक डॉ. विनय राय व प्लास्टिक सर्जरी की विभागाध्यक्ष डॉ. केएवी रावत ने संयुक्त रूप से किया। डॉ. रावत ने कहा कि प्लास्टिक सर्जरी में कॉस्मेटिक के अलावा भी बहुत तरह की शल्य चिकित्साएं की जाती हैं। आजकल जलने व जानवरों के हमले में खराब हुए चेहरों व शरीर के अन्य अंगों को फिर से बनाना प्लास्टिक सर्जरी से ही संभव है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड के पहले ऑटो वॉक का एम्स निदेशक ने किया औचक निरीक्षण, ये है खासियत

डायबिटीज व अन्य बीमारी से अंग में सुनपन व जख्मों का इलाज भी प्लास्टिक सर्जरी से संभव है। प्लास्टिक सर्जरी में सुपर स्पेशलिटी पाठ्यक्रम वर्तमान परिदृश्य में कॅरियर का सवरेत्तम विकल्प है। प्लास्टिक सर्जरी वार्ड में नर्सिंग स्टाफ संजीव तिवारी व प्लास्टिक सर्जरी ऑपरेशन थियेटर में स्टाफ विपिन ने अनुभव साझा किए। इस मौके पर डॉ. संजय साधु, डॉ. भावना प्रभाकर आदि शामिल रहे।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में आकाशीय बिजली की चेतावनी देगा दामिनी एप, पढ़िए खबर 

 

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस