ऋषिकेश, जेएनएन। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश के अस्थि रोग विभाग ने एक 16 वर्षीय बालिका की हड्डी के ट्यूमर की सफल सर्जरी की। अस्थि रोग विशेषज्ञ डॉ. प्रदीप कुमार मीणा ने बताया कि ट्यूमर ने मरीज के टखने की हड्डी को पूरी तरह से खोखला कर दिया था। जिसके कारण मरीज के एक पैर में चार महीने से ज्यादा समय से दर्द रहता था। इसके कारण वह चलने फिरने में लाचार थी। 

अस्थि रोग विभागाध्यक्ष प्रो. शोभा एस. अरोड़ा की अगुवाई में चिकित्सकीय टीम ने इस जटिल ऑपरेशन को अंजाम दिया। सर्जरी से लड़की के ट्यूमर ग्रसित टखने की हड्डी को निकाल दिया गया जबकि उसके स्थान पर एम्स संस्थान के बोन बैंक में संरक्षित कुल्हे की हड्डी का सफलतापूर्वक प्रत्यारोपण किया गया। चिकित्सकों ने बताया कि यह ऑपरेशन अलग तरह का पहला व अप्रत्याशित है।

चिकित्सकों ने बताया कि ऑपरेशन के बाद बालिका पूरी तरह से स्वस्थ्य है, वह जल्द बिना लचक व दर्द के अपने पैरों पर चलने लगेगी। गौरतलब है कि एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत के प्रयासों से इसी वर्ष अप्रैल माह में संस्थान में बोन बैंक की स्थापना की गई थी, जिससे हड्डी से जुड़े रोगियों को लाभ मिल सके। 

एम्स निदेशक प्रो. रविकांत ने बताया कि ऋषिकेश एम्स मरीजों को वर्ल्ड क्लास स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने की दिशा में तेजी से बढ़ रहा है, जिससे मरीजों को उपचार के लिए राज्य से बाहर के अस्पतालों में परेशान नहीं होना पड़े। सफल ऑपरेशन करने वाले चिकित्सकीय दल में डा. प्रदीप कुमार मीणा, डॉ. रामप्रिया, डॉ. साजिद, डॉ. संतोष आदि शामिल थे। 

यह भी पढ़ें: इस अस्पताल ने दूसरी मंजिल से गिरे बच्चे को दिया नया जीवन, जानिए

यह भी पढ़ें: उत्‍तराखंड के 23 लाख परिवारों को मिलेगा अटल आयुष्मान का लाभ

Posted By: Raksha Panthari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप