देहरादून, [जेएनएन]: आयकर सर्वे में रानीपोखरी के पास थानों रोड पर जुगरान इलेक्ट्रॉनिक्स शोरूम के संचालक विमल जुगरान ने तीन करोड़ रुपये की अघोषित आय सरेंडर की।

मुख्य आयकर आयुक्त पीके गुप्ता के निर्देशन व संयुक्त आयुक्त एएस राणा के नेतृत्व में जुगरान इलेक्ट्रॉनिक्स पर सर्वे की कार्रवाई की। टीम को पता चला कि विमल जुगरान शोरूम के साथ-साथ प्रॉपर्टी डीलिंग का धंधा भी कर रहे हैं। शोरूम के साथ ही प्रॉपर्टी डीलिंग का कार्यालय भी खोला गया था। जबकि इसका उल्लेख उन्होंने अपनी रिटर्न में नहीं किया था।

जांच-पड़ताल में जमीनों की खरीद-फरोख्त के कई दस्तावेज भी आयकर अधिकारियों के हाथ लगे। सर्वे टीम ने पाया कि प्रॉपर्टी डीलिंग के काम से जो कमाई विमल जुगरान को हुई है, उसे घोषित नहीं किया गया है। अघोषित आय से संबंधित कई रिकॉर्ड आयकर विभाग के हाथ लग जाने के बाद विमल जुगरान ने तीन करोड़ रुपये की आय सरेंडर कर दी। 

इसमें में 30 लाख रुपये वह 31 मार्च तक जमा करा देंगे। वहीं, विमल के साथ शोरूम संचालन व प्रॉपर्टी का काम करने वाले दीपक डोभाल की अघोषित आय के प्रमाण भी सर्वे में मिले और दीपक ने आयकर विभाग के समक्ष करीब 50 लाख रुपये की अघोषित आय सरेंडर कर दी। सर्वे टीम में आयकर अधिकारी दर्शन लाल, बीपीएस रौतेला, शांतिराम चौहान, अतर सिंह चौहान आदि शामिल रहे।

यह भी पढ़ें: भवाली के एक रिजॉर्ट में आयकर छापा, ढाई करोड़ की टैक्स चोरी पकड़ी 

यह भी पढ़ें: आयकर की कार्रवाई में प्रॉपर्टी कारोबारी ने सरेंडर किए पांच करोड़

यह भी पढ़ें: आयकर विभाग की जांच के दायरे में 3500 खाताधारक

Posted By: Bhanu

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस