देहरादून, जेएनएन। टिहरी लोकसभा सीट पर चुनाव लड़ने वाले 16 में से नौ    प्रत्याशियों ने खर्चों का मिलान कर दिया है। शेष सात प्रत्याशियों को 22 जून तक का समय दिया गया है। यदि समय पर खर्चों का मिलान न कराया गया तो प्रत्याशियों को निर्वाचन अधिकारी नोटिस जारी करेंगे। 

इधर, खर्चों के मिलान के दौरान प्रत्याशियों ने गाड़ी, सभाएं और दूसरे प्रचार के खर्चे आधे लगाए गए थे। चुनाव पर्यवेक्षकों ने इसमें सुधार करते हुए तय रेट दर्ज कराए हैं।

टिहरी लोकसभा चुनाव में व्यय प्रेक्षक जफर उल हक तनवीर और महेश भारद्वाज ने मंगलवार को विभिन्न राजनीतिक दलों के प्रत्याशियों व उनके प्रतिनिधियों के साथ निर्वाचन लेखा समाधान को लेकर बैठक की। बैठक में व्यय प्रेक्षक जफर उल हक ने उपस्थित राजनीतिक दलों के प्रत्याशियों और प्रतिनिधियों को चुनाव व्यवस्थाओं के संबंध में अपने अनुभव, सुझाव और ध्यान देने योग्य महत्वपूर्ण बिंदुओं को साझा करने को कहा। 

इस दौरान नौ प्रत्याशियों द्वारा चुनावी खर्चों का ब्योरा बैठक में रखा गया। जिसमें कुछ में तो ठीक पाया गया, मगर कुछ में आपत्ति दर्ज होने पर सुधार किया गया। इस मौके पर पाया गया कि छह प्रत्याशियों ने खर्चों का मिलना नहीं किया है। 

इनको 22 जून तक समय देते हुए खर्चों का मिलान के निर्देश दिए हैं। इस मौके पर व्यय प्रेक्षक महेश भारद्वाज, नोडल अधिकारी एवं मुख्य कोषाधिकारी नरेंद्र सिंह, सह नोडल अधिकारी सुनील रतूड़ी, एटीओ राजीव गुप्ता, भरत सिंह आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में भाजपा बनाएगी दो लाख से अधिक नए सदस्य

यह भी पढ़ें: सरकार की सबसे अधिक मेहर मुख्यमंत्री की विधानसभा में बरसी, यहां 62 करोड़ के कार्य हुए मंजूर

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड को जल्द मिलेंगे तीन नगर निगम, पढ़िए पूरी खबर

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Bhanu