जागरण संवाददाता, देहरादून। School Reopening In Uttarakhand उत्तराखंड सरकार की ओर से दो अगस्त से छठी से 12वीं कक्षा तक के लिए स्कूल खोलने की अनुमति मिलने के बाद देहरादून जिले में 1239 सरकारी, 900 से ज्यादा निजी और 11 केंद्रीय विद्यालयों में इसके लिए तैयारी शुरू हो गई है। कैबिनेट के फैसले के क्रम में सरकारी स्कूलों में दो अगस्त से भौतिक रूप से पढ़ाई शुरू हो जाएगी। हालांकि, निजी स्कूलों के खुलने की तिथि अभी स्पष्ट नहीं हो पाई है। इसके लिए अधिकांश निजी स्कूल प्रबंधन शासन की तरफ से मानक प्रचालन प्रक्रिया (एसओपी) जारी किए जाने का इंतजार कर रहे हैं।

निजी स्कूलों के प्रबंधन का कहना है कि एसओपी जारी होने के बाद ही स्कूल खोलने की तिथि तय करेंगे। इसके अलावा आवासीय विद्यालय भी एसओपी का इंतजार कर रहे हैं। इस संबंध में शासन में आज निजी स्कूल संचालकों की शिक्षा सचिव व विभाग के अन्य अधिकारियों के साथ बैठक भी है। इसके बाद कोरोना संक्रमण के बीच स्कूल संचालन के लिए एसओपी जारी होने की उम्मीद है।

ब्राइटलैंड्स स्कूल के मीडिया प्रभारी गिरीश ने बताया कि फिलहाल बच्चों को आनलाइन पढ़ाया जा रहा है। बच्चों को स्कूल बुलाने का फैसला एसओपी आने बाद ही किया जाएगा। कैंब्रियन हाल, कान्वेंट आफ जीजस एंड मेरी, द टोंसब्रिज, द एशियन स्कूल, समरवैली, सेंट ज्यूड्स, स्कालर्स होम्स, कर्नल ब्राउन, ओलंपस हाई समेत अन्य प्रतिष्ठित स्कूल भी एसओपी जारी होने के बाद ही स्कूल खोलने की तारीख तय करेंगे। हालांकि, पेसलवीड स्कूल के चेयरमैन प्रेम कश्यप ने बताया कि अभिभावकों को स्कूल खुलने की सूचना दे दी गई है। दो अगस्त से बच्चों के लिए पुरानी गाइडलाइन के हिसाब से स्कूल खोल दिए जाएंगे।

वहीं, द दून स्कूल की मीडिया प्रभारी कृतिका जुगराण ने बताया कि एसओपी का इंतजार किया जा रहा है। इसके बाद अभिभावकों को पत्र भेजकर बच्चों को रुझान जाना जाएगा, जिसके बाद स्कूल खोलने का दिन तय होगा। वेल्हम ब्वायज स्कूल के उप प्रधानाचार्य महेश कांडपाल ने भी बताया कि स्कूल गाइडलाइन का इंतजार कर रहा है। हालांकि, अभिभावकों से संपर्क करना शुरू कर दिया गया है।

मास्क, थर्मल स्क्रीनिंग बगैर प्रवेश नहीं

मुख्य शिक्षा अधिकारी डा. मुकुल कुमार सती ने बताया कि बीते रोज शासन में हुई बैठक के अनुसार स्कूल खोलने से पहले हर कक्षा के साथ पूरे परिसर को सैनिटाइज करने का आदेश दिया गया है। बिना मास्क व थर्मल स्क्रीनिंग के किसी भी छात्र, शिक्षक और कर्मचारी को स्कूल में प्रवेश नहीं दिया जाना है। स्कूल में साफ-सफाई का ध्यान रखने के साथ सैनिटाइजर की व्यवस्था अनिवार्य रूप से करनी होगी। छात्रों के बीच आवश्यक शारीरिक दूरी का भी पूरा ध्यान रखना होगा।

केवि भी एसओपी आने के बाद खुलेंगे

उधर, केंद्रीय विद्यालय देहरादून संभाग की उपायुक्त मीनाक्षी जैन ने बताया कि सभी स्कूलों को अपने स्तर से तैयारी शुरू करने के निर्देश दे दिए गए हैं। हालांकि, स्कूल शासन से एसओपी आने के बाद ही खोले जाएंगे।

यह भी पढ़ें- उत्‍तराखंड में सरकार के इस फैसले ने बढ़ाई अभिभावकों की चिंता, पढ़‍िए पूरी खबर

Edited By: Raksha Panthri