मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

देहरादून, जेएनएन। उत्तरखंड में मौसम ने दिनभर में कई रंग बदले। सुबह से दोपहर तक चटख धूप खिली तो शाम को राज्य के कई हिस्सों में तेज बारिश का दौर चला। केदारनाथ हाईवे पांचवें दिन भी नहीं खुला। जबकि बाकी तीन धामों के हाईवे दोपहर तक बंद और खुलते रहे। उसके बाद से सुचारू हैं। मौसम विभाग ने 19 अगस्त तक सात जिलों में मौसम का मिजाज बिगड़े रहने का अनुमान जताया है।

सोमवार रात से मंगलवार सुबह तक राज्य के कई जिलों में रुक-रुक कर बारिश होती रही, लेकिन उसके बाद मौसम साफ हो गया और धूप खिल आई। दोपहर बार मौसम ने फिर से करवट ली आसमान में घटा छाने लगी। शाम चार बजे बारिश का दौर शुरू हुआ, जो देर रात तक अलग-अलग चक्रों में चलता रहा। राज्य मौसम केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह के अनुसार 19 अगस्त तक चमोली, पिथौरागढ, बागेश्वर, रुद्रप्रयाग, देहरादून, नैनीताल और पौड़ी जिले में भारी से भारी बारिश पड़ सकती है। विभाग ने राज्य सरकार को एहतियाती कदम उठाने सलाह भी दी है। 

उधर, यात्रा मार्गों पर दुश्वारियां बनी हुई हैं। केदारनाथ हाईवे पांचवें दिन बांसवाड़ा में तो खुल गया, लेकिन भीरी में अभी बाधित है। वाहन वैकिल्पक मार्गों से गुप्तकाशी पहुंच रहे हैं। बदरीनाथ हाइवे सुबह तीन घंटे लामबगड़ के पास अवरुद्ध रहा। यहां यातायात सुचारु हो गया, लेकिन पहाड़ी से पत्थर गिरने की वजह से सफर जोखिम भरा बना हुआ है। गंगोत्री हाईवे हेल्गूगाड़ के पास चार घंटे और यमुनोत्री हाईवे पालीगाड़ के पास तीन घंटे तक बाधित रहा। 

चमोली जिले के पिंडर घाटी के दो दर्जन से अधिक गांवों का ब्लाक मुख्यालय से संपर्क एक सप्ताह बाद भी कटा हुआ है। इसके चलते इन गांवों में रसद और अन्य वस्तुओं की कमी होने लगी हैं। पिथौरागढ़ के थरकोट और बागेश्वर में बारिश से दो-दो मकान क्षतिग्रस्त हो गए। आपदा प्रबंधन विभाग यहां राहत और बचाव कार्यों में जुटा है। 

बागेश्वर में फिर जारी हुआ 48 घंटे का अलर्ट

बागेश्वर में फिर एक बार बारिश का अलर्ट जारी हुआ है। 48 घंटे जिले के लिए खतरनाक हो सकते हैं। डीएम ने अलर्ट जारी करते हुए अधिकारी और आपदा कंट्रोल रूप को 24 घंटे सचेत रहने को कहा है। वहीं, नदियों की तरफ जाने वालों को मुनादी पीटकर रोकने के निर्देश भी जल पुलिस को दिए हैं।

जिले में अबतक बारिश से सिर्फ दो दर्जन से अधिक लोग बेघर हुए हैं और एक दर्जन मवेशियों के बह और दब जाने की सूचना है। इसके अलावा दर्जनभर से अधिक सड़कें बंद हैं और रास्ते, बिजली, पेयजल लाइनों को भी भारी नुकसान हुआ है। जिलाधिकारी रंजना राजगुरु ने बताया कि बागेश्वर जिले के लिए फिर 48 घंटे का अलर्ट जारी हुआ है। 16 और 17 अगस्त तक भारी बारिश जबकि विशेष रूप से 19 अगस्त तक कहीं-कहीं भारी से बहुत भारी बारिश और भूस्खलन होने की संभावना बनी हुई है। सभी विभागों के अधिकारी, आपदा कंट्रोल रूम को अलर्ट किया गया है। नदियों के तरफ जाने वालों को रोकने के लिए पुलिस को निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने लोगों से भी सावधान रहने को कहा है।

यह भी पढ़ें: उत्‍तराखंड में आपदा का दंश: 58 दिन, 32 मौतें और 38 घायल

यह भी पढ़ें: उत्‍तराखंड के चमोली जिले में फटा बादल, छह लोगों की मलबे में दबकर हुई मौत

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Raksha Panthari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप