राज्य ब्यूरो, देहरादून। चारधाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं व पर्यटकों को होटल, धर्मशाला, आश्रम, होम स्टे, गेस्ट हाउस, पीजी अथवा अन्य पंजीकृत आवासीय सुविधा में प्रवास की सलाह दी गई है। आवासीय सुविधाओं में कार्यरत कर्मचारियों का टीकाकरण होना अनिवार्य है। शासन की ओर से जारी एसओपी में यात्रियों से यह भी कहा गया है कि वे यात्रा के दौरान रिश्तेदारों अथवा मित्रों के घर ठहरने से बचें। सहरूग्णता वाले व्यक्तियों को अतिरिक्त सावधानी बरतने को कहा गया है।

जिला व राज्य स्तर पर कंट्रोल रूम

बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री धामों से संबंधित जिलों में कंट्रोल रूम स्थापित किए जाएंगे। इनमें कोविड रिपोर्टिंग के मद्देनजर तीर्थयात्रियों के दैनिक रिकार्ड के लिए एक डेस्क बनेगी। पर्यटन विभाग के देहरादून स्थित कार्यालय में राज्य स्तरीय कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है।

चेक प्वाइंट में तैनात होंगे स्वास्थ्य व पुलिस कर्मी

चारधाम यात्रा की व्यवस्थाओं के अनुपालन के लिए बदरीनाथ मार्ग पर गौचर, ग्वालदम, पांडुकेश्वर, पांडवाखाल व मोहनखाल, केदारनाथ मार्ग पर सिरोबगड़, चिरबटिया व सोनप्रयाग, गंगोत्री-यमुनोत्री मार्ग पर स्यान्सू, नगून बैरियर, धनोत्री व डामटा में चेक प्वाइंट स्थापित किए गए हैं। इनमें स्वास्थ्य विभाग और पुलिस के कर्मचारी तैनात रहेंगे। चेक प्वाइंट पर यात्रियों के ई-पास, कोविड वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट व कोविड जांच की निगेटिव रिपोर्ट का सत्यापन किया जाएगा।

आडियो-विजुअल माध्यम से देंगे सूचनाएं

एसओपी के अनुसार कोविड प्रोटोकाल के अनुपालन के लिए आडियो व विजुअल माध्यमों के साथ ही बैनर, होर्डिंग्स आदि के जरिये श्रद्धालुओं को सूचनाएं दी जाएंगी। मुख्य स्थानों पर एडवाइजरी से संबंधित पोस्टर भी लगाए जाएंगे।

देवस्थानम बोर्ड ने भी जारी की एसओपी

चारधाम यात्रा के लिए शासन की एसओपी जारी होने के बाद इसी के अनुरूप चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड ने भी अपनी एसओपी जारी की। मंडलायुक्त गढ़वाल एवं बोर्ड के सीईओ रविनाथ रमन ने बताया कि यात्रा के दौरान कोविड की गाइडलाइन का अनिवार्य रूप से अनुपालन कराया जाएगा। मंदिरों में थर्मल स्क्रीनिंग, मास्क व सैनिटाइजर की उपलब्धता, सुरक्षित शारीरिक दूरी के मद्देनजर सभी जरूरी कदम उठाए गए हैं। उन्होंने बताया कि बच्चों, बीमार और बीमारी से ग्रस्त अति वृद्ध जनों को यात्रा की अनुमति नहीं होगी। किसी भी सहायता व मार्गदर्शन के लिए बोर्ड के अधिकारियों, कर्मचारियों से यात्री संपर्क कर सकते हैं।

करीब दो माह चलेगी यात्रा

उत्तराखंड में चारधाम यात्रा करीब दो माह चलेगी। इस वर्ष केदारनाथ के कपाट 17 मई, बदरीनाथ के 18 मई, गंगोत्री के 15 मई और यमुनोत्री के कपाट 14 मई को खुले थे। देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड के मीडिया प्रभारी डा हरीश गौड़ के अनुसार अभी यात्रा के लिए करीब दो माह का समय शेष है। शनिवार से यात्री चारधाम में दर्शन कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि चारधाम यात्रा शुरू होते ही लोग अब पंचबदरी के साथ ही पंचकेदारों में द्वितीय केदार मध्यमेश्वर, तृतीय केदार तुंगनाथ और चतुर्थ केदार रुद्रनाथ की यात्रा के लिए भी पहुंचेंगे।

यह भी पढ़ें: - Chardham Yatra 2021: उत्‍तराखंड में चारधाम और हेमकुंड साहिब यात्रा हुई शुरू

Edited By: Sunil Negi