जागरण संवाददाता, श्रीनगर गढ़वाल। गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय के श्रीनगर, पौड़ी, टिहरी तीनों परिसर स्नातकोत्तर छात्र-छात्राओं के लिए आठ नवंबर से खुलने जा रहे हैं। जिससे पीजी छात्रों की कक्षाएं (आफलाइन) भी शुरू हो जाएंगी। सभी पीजी छात्र-छात्राओं को कोविड के दोनों टीकों का टीकाकरण का प्रमाणपत्र भी लाना आवश्यक है। कुलसचिव ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है।

परिसर में भीड़ से छात्रों को बचाने को लेकर तीनों परिसरों में पीजी की कक्षाएं विभिन्न बैचों में संचालित होंगी। प्रत्येक बैच में एक बार में केवल 50 प्रतिशत छात्र ही कक्षा में उपस्थित होंगे। कुलसचिव डा. अजय खंडूड़ी द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि उत्तराखंड से बाहर के छात्र-छात्राओं को परिसर और छात्रावास में प्रवेश करने से पूर्व वैक्सीन की दोनों डोज लगाने का प्रमाणपत्र और उत्तराखंड शासन के स्मार्ट सिटी पोर्टल पर पंजीकरण कराने का प्रमाणपत्र भी साथ में लाना जरूरी है। उत्तराखंड के छात्रों को कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लगाए जाने का प्रमाणपत्र आवश्यक रूप से दिखाना अनिवार्य भी है।

स्नातक कक्षाओं को लेकर होगा विचार

श्रीनगर, पौड़ी, टिहरी तीनों परिसरों को स्नातक स्तर की कक्षाओं के लिए खोलने को लेकर सम्बन्धित संकाय अध्यक्षों और विभागाध्यक्षों की सिफारिशों पर विवि प्रशासन निर्णय लेगा।

एमएड चौथे सेमेस्टर की परीक्षाएं आठ नवंबर से

गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय के एमएड चौथे सेमेस्टर की परीक्षाओं का कार्यक्रम विवि प्रशासन द्वारा घोषित कर दिया गया है। विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक प्रो. अरुण रावत द्वारा जारी किए गए परीक्षा कार्यक्रम के अनुसार यह परीक्षाएं आठ नवम्बर से 15 नवम्बर तक चलेंगी। प्रात: 11 से 12 बजे की पाली में यह परीक्षाएं होंगी। एमएड की यह परीक्षाएं एमसीक्यू पैटर्न पर ओएमआर सीट पर होंगी। परीक्षा नियंत्रक प्रो. अरुण रावत ने कहा कि देहरादून और हरिद्वार जिले के सभी शिक्षण संस्थाओं के एमएड परीक्षार्थियों के लिए डीएवी पीजी कालेज देहरादून परीक्षा केंद्र बनाया गया है।

यह भी पढ़ें:- उत्तराखंड में पालीटेक्निक के 35 वरिष्ठ प्रवक्ता बने विभागाध्यक्ष, दी गई नई तैनाती; दो वर्ष रहेगी परिवीक्षा अवधि

Edited By: Sunil Negi