देहरादून, अशोक केडियाल। उत्तराखंड में इस बार मानसून करीब आठ दिन देरी से दस्तक देगा। मौसम विभाग का मानना है कि अमूमन उत्तराखंड में मानसून 22-23 जून तक पहुंचता है, लेकिन इस बार मानसून के एक जुलाई तक आने की संभावना है। 

मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि प्रशांत महासागर में मई तक अलनीनो का असर बना रहा। इसके चलते उत्तर भारत में मानसून में विलंब होगा। वहीं उत्तराखंड में मानसून की बारिश सामान्य से चार फीसद तक कम हो सकती है। हालांकि चार फीसद अधिक या कम बारिश को मौसम वैज्ञानिक सामान्य ही मानते हैं।

मौसम विज्ञान केंद्र देहरादून कि निदेशक बिक्रम सिंह ने कहा कि उम्मीद है कि इस बार उत्तराखंड में मानसूनी वर्षा सामान्य रहेगी। उन्होंने बताया कि 96 से 104 फीसद बारिश को सामान्य माना जाता है। बारिश की गणना एक जून से प्रारंभ होकर अगले चार महीने तक की जाती है। 

उन्होंने बताया कि उत्तराखंड में मानसून के दौरान बारिश का औसत 1229 मिमी निर्धारित है। जबकि वर्ष 2017 में यह आंकड़ा 1292 मिमी रहा। पिछले वर्ष उत्तराखंड में मानसून ने 30 जून को दस्तक दी थी। पिछली बार सबसे अधिक बारिश चंपावत जिले में रिकॉर्ड की गई।

सूबे में मानसून का आगमन

वर्ष-----------------------तिथि

2009-----------------29 जून

2010-----------------05 जुलाई

2011-----------------20जून

2012-----------------05 जुलाई

2013------------------15 जून

2014------------------01 जुलाई

2015------------------24 जून

2016------------------21 जून

2017------------------01 जुलाई

2018------------------30 जून 

दून और मसूरी में आने वाले दिनों में और चढ़ेगा पारा

उत्तराखंड में मौसम भले ही रोज रंग बदल रहा हो, लेकिन मौसम विभाग के अनुसार दस जून तक मसूरी और देहरादून में पारा चढ़ने की संभावना है। हालांकि, इसके बाद तापमान में कमी आनी शुरू हो जाएगी। 

उधर, इस सप्ताह एक से पांच जून के बीच बारिश में 14 फीसद की कमी दर्ज की गई है। प्रदेश में सबसे अधिक गर्म रुड़की रहा। यहां तापमान 41.4 डिग्री सेल्सियस रहा।

गुरुवार शाम पहाड़ से लेकर मैदान तक बारिश, अंधड़ और ओलावृष्टि के बावजूद शुक्रवार को पारे में फिर उछाल आया। विशेषकर मैदानी क्षेत्रों में गरमी और उमस एक बार फिर हलकान करने लगी है। पहाड़ों पर मौसम अवश्य सुकून दे रहा है। 

देहरादून, हरिद्वार और ऊधमसिंहनगर में सूरज सुबह से ही तल्ख तेवर दिखाने लगा। चिलचिलाती धूप में सड़कों पर चहल-पहल भी कम ही रही। दून का अधिकतम एवं न्यूनतम तापमान क्रमश : 37.4 व 20.8 डिग्री सेल्सियस रहा।

राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि जून के पहले सप्ताह में बारिश सामान्य से 14 फीसद कम रही है। उन्होंने बताया कि आने वाले दिनों में पहाड़ के कुछ इलाकों में हल्की बारिश का क्रम बना रहेगा, लेकिन मैदानों में पारे का उछाल जारी रहने की संभावना है।

यह भी पढ़ें: उत्‍तराखंड में बारिश और आंधी का कहर, स्‍कूल की दीवार गिरने से दो लोगों की मौत

यह भी पढ़ें: मैदान में तेज हवा और पहाड़ में ओलावृष्टि के आसार, आसमान में छाई धुंध

यह भी पढ़ें: उत्‍तराखंड में बदला मौसम, हल्‍की बारिश से गिरा पारा; गर्मी से मिली राहत

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Bhanu