देहरादून, जेएनएन। अपने घर का सपना साकार करने के लिए 88 लोगों ने इमीनेट हाइट्स और ऑर्चिड पार्क नाम के प्रोजेक्ट में फ्लैट खरीदने के लिए पुष्पांजलि बिल्डर्स के डायरेक्टर दीपक मित्तल को अपनी जीवनभर की गाढ़ी कमाई सौंप दी। फ्लैट के लिए निवेशकों ने दीपक मित्तल को 35 लाख से एक करोड़ रुपये तक दिए थे। कई निवेशक ऐसे भी हैं, जिन्होंने लोन लेकर फ्लैट के लिए पैसे जमा किए। दीपक ने इन लोगों को 2017-2018 दीपावली के समय ही फ्लैट तैयार करके देने का वादा किया था, लेकिन अब तक फ्लैट के नाम पर वहां एक ईंट भी नहीं रखी गई है। दीपक मित्तल के दुबई चले जाने की सूचना के बाद से ये निवेशक खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं। निवेशक दीपक के साथ उसके सहयोगी राजपाल वालिया को बराबर के आरोपित मान रहे हैं।

पीड़ित इरा चौहान ने बताया कि मेरे पति मर्चेंट नेवी में हैं। 2015 में फ्लैट बनने की सूचना मिली तो एक फ्लैट बुक करवा दिया। इसके बदले जिंदगी भर की कमाई 61 लाख रुपये बिल्डर को दिए। लेकिन, पांच साल बाद भी फ्लैट नहीं मिला। बिल्डर के मुकर जाने पर पुलिस से शिकायत की। पुलिस पीड़ितों का सहयोग कर रही है।

कविता भाटिया कहती हैं कि नौकरी करके किसी तरह पैसे जमा किए थे। बैंक से लोन लिया, तब जाकर फ्लैट खरीदने को 58 लाख रुपये जमा हुए। अब नौकरी भी छूट गई है। घर का किराया देने के साथ जैसे-तैसे बैंक की किस्तें भी भर रही हूं। जिस समय पैसे दिए थे, उस समय साइट पर काम चल रहा था। अब काम ठप है। बार-बार कहने के बावजूद जब बिल्डर ने पैसे नहीं लौटाए तो पुलिस की शरण में जाना पड़ा।

कैप्टन पवन माथुर ने कहा कि जुलाई 2016 में फ्लैट बुक कराया था। चेक के माध्यम से 37 लाख रुपये दिए थे। बताया गया था कि 2018 में फ्लैट तैयार होकर पजेशन दी जाएगी, लेकिन अब तक साइट पर फ्लैट की नींव भी नहीं रखी गई है। जिंदगी भर की जमा-पूंजी फ्लैट खरीदने के लिए लगा दी। अब बिल्डर का रवैया बदला दिख रहा है। ऐसे में पुलिस पर ही उम्मीद टिकी हुई है।

यह भी पढ़ें: मुकदमे दर्ज होने के बाद पुष्पांजलि बिल्डर्स के निदेशक फ्लैट देने या पैसे लौटाने को तैयार

यह है प्रोजेक्ट

पुष्पांजलि रिएलएम एंड इंफ्राटेक लिमिटेड के डायरेक्टर दीपक मित्तल और राजपाल वालिया ने निवेशकों से ऑर्चिड पार्क और इमीनेट हाइट्स अपार्टमेंट्स में आठ टॉवर बनाने की बात कही था। इसमें करीब 300 फ्लैट बनने थे। 2017 में शुरू हुए इस प्रोजेक्ट में अब तक चार टावरों के ढांचे ही खड़े हुए हैं। एक टॉवर का केवल बेसमेंट बना है और बाकी के तीन टावरों में अभी काम तक शुरू नहीं हुआ है।

यह भी पढ़ें: धोखाधड़ी के मामले में पुष्पांजलि के एमडी पर एक और मुकदमा दर्ज

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस