मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

देहरादून, राज्य ब्यूरो। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का देवभूमि उत्तराखंड से खास लगाव है। खासकर, केदारनाथ धाम के प्रति तो उनकी अगाध आस्था है और जब भी वक्त मिलता है, वह बाबा केदार के दर्शन को खिंचे चले आते हैं। बतौर प्रधानमंत्री दूसरी पारी में भी उनका देवभूमि के प्रति नेह एक बार फिर झलका है। 'मन की बात' कार्यक्रम में उन्होंने अपनी हाल की केदारनाथ यात्रा का जिक्र किया और कहा कि यह यात्रा उनके स्व के खोज के लिए थी। नमो बीती 18 मई को आध्यात्मिक यात्रा पर केदारनाथ आए थे और उन्होंने ध्यान गुफा में ध्यान लगाया और वहीं रात्रि विश्राम कर देश-दुनिया का ध्यान खींचा था। इसके बाद से केदारनाथ में श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ रहा है और 18 मई से अब तक वहां 690980 यात्री दर्शन कर चुके हैं। यही नहीं, प्रधानमंत्री ने गढ़वाल की महिलाओं के वर्षा जल संरक्षण के प्रयासों का उल्लेख कर यहां की मातृशक्ति को भी सलाम किया है।

देवभूमि उत्तराखंड यदि प्रधानमंत्री मोदी के मन में बसता है तो इसकी खास वजह भी है। एक दौर में उन्होंने केदारनाथधाम के नजदीक गरुड़चट्टी में साधना की थी। बाबा केदारनाथ उनके आराध्य हैं। वर्ष 2013 में जब केदारनाथ में आपदा आई तो नमो गुजरात के मुख्यमंत्री थे। उन्होंने यहां आकर केदारपुरी के पुननिर्माण की इच्छा जताई, मगर सियासी कारणों से यह परवान नहीं चढ़ पाई। 2014 में प्रधानमंत्री बनने के बाद उन्होंने इस दिशा में कार्य शुरू किया।

2016 में उन्होंने चारधाम केदारनाथ, बदरीनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री को जोडऩे के लिए ऑल वेदर रोड परियोजना की सौगात दी। यही नहीं, केदारपुरी का पुनर्निर्माण उनके ड्रीम प्रोजेक्ट में है और वह लगातार इसकी मॉनीटङ्क्षरग कर रहे हैं। पुननिर्माण के बाद केदारपुरी अब एकदम नए कलेवर में निखर चुकी है और अभी भी कार्य चल रहे हैं। वह कई मर्तबा केदारनाथ धाम की यात्रा कर चुके हैं।

लोकसभा चुनाव की आपाधापी से निबटने के बाद बीती 18 मई को नमो एक बार फिर बाबा केदार के दर पर केदारनाथ धाम पहुंचे। उन्होंने केदारनाथ से कुछ दूर ध्यान गुफा में ध्यान लगाया और रात्रि विश्राम भी वहीं किया। उनकी इस केदारनाथ यात्रा ने देश-दुनिया का ध्यान अपनी ओर खींचा था। तब से केदारनाथ की ध्यान गुफा आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। धाम में पहुंचने वाले श्रद्धालुजन बड़ी संख्या में इस गुफा देखने भी पहुंच रहे हैं।

दोबारा प्रधानमंत्री बनने के बाद नमो ने पहले 'मन की बात' कार्यक्रम में अपनी इस केदारनाथ यात्रा का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि उनकी यह यात्रा स्व के खोज के लिए थी। जाहिर है कि उनके इस कथन से केदारनाथ धाम की देश-दुनिया में फिर से ब्रांडिंग हुई है। साथ ही यात्रा के लिहाज से सुरक्षित उत्तराखंड का संदेश भी उन्होंने दिया। इसका फायदा उत्तराखंड को मिलेगा।

मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का उत्तराखंड के प्रति विशेष स्नेह है। उनके मार्गदर्शन में हमारा राज्य निरंतर आगे बढ़ रहा है। ऑल वेदर रोड, केदारपुरी का पुनर्निर्माण, ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना, भारतमाला परियोजना में तमाम सड़कों का कायाकल्प समेत अनेक केंद्र पोषित योजनाएं उन्हीं के प्रयासों से चल रही हैं। केदारनाथ के प्रति प्रधानमंत्री की अगाध श्रद्धा है। उत्तराखंड प्रधानमंत्री के दिल में बसा है। मन की बात कार्यक्रम में उन्होंने दो बार उत्तराखंड का जिक्र किया। यह इस छोटे से राज्य के प्रति उनके स्नेह का प्रतीक है।

यह भी पढ़ें: पीएम मोदी ने 'मन की बात' में दो बार किया उत्तराखंड का जिक्र, पढ़िए पूरी खबर

यह भी पढ़ें: जिस गुफा में पीएम मोदी ने की साधना उसका आकर्षण विदेशों में भी बढ़ा, जुलाई के लिए बुकिंग फुल

यह भी पढ़ें: Chardham Yatra: केदारनाथ में ध्यान गुफा की ऑनलाइन बुकिंग शुरू, जानिए सुविधाएं और दरें

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप