जागरण संवाददाता, देहरादून। Uttarakhand COVID 19 Cases News उत्तराखंड में कोरोना की रफ्तार नहीं थम रही है। ङ्क्षचता इस बात की है कि संक्रमितों की संख्या के साथ मौत का आंकड़ा भी हर दिन तेजी से बढ़ रहा है। रविवार को राज्य में 5606 नए मामले आए, जबकि कोरोना संक्रमित 71 मरीजों की मौत हो गई। वहीं सैैंपल पॉजिटिविटी रेट 21 फीसद रहा। 

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, निजी व सरकारी लैब से 26263 सैंपल की रिपोर्ट प्राप्त हुई, जिनमें 20657 की रिपोर्ट निगेटिव आई है। दून में कोरोना सबसे ज्यादा कहर बरपा रहा है। यहां 2580 लोग संक्रमित मिले हैैं। स्थिति की गंभीरता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि दून में सैैंपल पॉजिटिविटी दर 27 फीसद रही है। हरिद्वार में 628, ऊधमङ्क्षसह नगर में 567 व नैनीताल में 436 व्यक्तियों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके अलावा टिहरी गढ़वाल में 248, पौड़ी गढ़वाल में 234, चमोली में 223, रुद्रप्रयाग में 186, चंपावत में 173, उत्तरकाशी में 126, पिथौरागढ़ में 94, अल्मोड़ा में 77 व बागेश्वर में 34 नए मामले आए हैैं। इधर, विभिन्न जनपदों में 2935 मरीज स्वस्थ भी हुए हैैं। 

अब तक प्रदेश में कोरोना के एक लाख, 91 हजार, 620 मामले आए हैं, जिनमें एक लाख, 31 हजार, 144 लोग स्वस्थ हो गए हैं। प्रदेश में सक्रिय मामले 53612 पर पहुंच गए हैं। वहीं, कोरोना संक्रमित 2802 मरीजों की अब तक मौत हो चुकी है।

लगातार बढ़ रहा दबाव 

प्रदेश में कोरोनाकाल के 59 सप्ताह हो चुके हैैं। बीता सप्ताह हर लिहाज से मुश्किल भरा रहा है। इस दौरान (25 अप्रैल-एक मई) के बीच कोरोना के 38581 मामले आए। वहीं कोरोना के कारण 629 मरीजों ने दम तोड़ दिया। ङ्क्षचता इस बात की भी है कि इस दौरान संक्रमण दर 13.87 फीसद रही। स्थिति इसलिए ङ्क्षचताजनक है, क्योंकि इस दरमियान रिकवरी की तुलना में 19288 मामले ज्यादा आए हैैं। रिकवरी दर में कमी के कारण सक्रिय मामलों का बोझ लगातार बढ़ रहा है। यह पहली बार है जब सक्रिय मामले 50 हजार के पार पहुंच गए हैं। इससे अस्पतालों पर भी भारी दबाव है। स्थिति दिन-ब-दिन भयावह होती जा रही है और मरीजों की बढ़ती तादाद के बीच सीमित संसाधन बड़ी चुनौती हैं। भर्ती होने तक के लिए मरीज एक से दूसरे अस्पताल को भटक रहे हैं। 

 कोतवाली प्रभारी निरीक्षक  कोरोना पॉजिटिव

रुड़की में गंगनहर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक मनोज मैनवाल कोरोना पॉजिटिव निकले हैं। रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद प्रभारी निरीक्षक ने खुद को आइसोलेट कर लिया है। साथ ही उनके संपर्क में आने वाले अन्य पुलिसकर्मियों को भी क्वारंटाइन किया गया है। बताया गया कि शनिवार की देर शाम सिविल लाइंस कोतवाली में डीजी की वीडियो कांफ्रेंसिंग में भी वह शामिल हुए थे।

सीमांत त्यूणी में भी बन गया कंटेनमेंट जोन

कोरोना वायरस के संक्रमण से अब सीमांत क्षेत्र की त्यूणी तहसील भी अछूती नहीं रही। संक्रमण के छिटपुट मामलों के बाद अब एक ही परिवार के पांच सदस्यों के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद त्यूणी क्षेत्र के ग्राम बौराड़ (कूणा) में कंटेनमेंट जोन बनाया गया है। जिले में कंटेनमेंट जोन की संख्या बढ़कर अब 54 हो गई। जिलाधिकारी डॉ. आशीष श्रीवास्तव के आदेश के मुताबिक, बौराड़ में उस हिस्से को कंटेनमेंट जोन बनाया गया है, जिसके पूर्व में अजब सिंह पंवार का घर, पश्चिम में मार्ग, उत्तर में रणवीर सिंह का घर व दक्षिण दिशा में दलजीत सिंह का घर है। अग्रिम आदेश तक कंटेनमेंट जोन से कोई भी व्यक्ति बाहरी क्षेत्र में प्रवेश नहीं कर पाएगा। जरूरत की वस्तुओं की आपूर्ति प्रशासन सुनिश्चित कराएगा।

त्यूणी तहसील के मुताबिक बौराड़ में कंटेनमेंट जोन बनाए गए घर में किसी सदस्य के राज्य के बाहर से आने की पुष्टि हुई है। लिहाजा, संक्रमण संबंधित सदस्य के माध्यम से परिवार के अन्य सदस्यों में भी फैल गया। कोरोना की दूसरी लहर में यह पहला मामला है, जब सीमांत क्षेत्र में संक्रमण के चलते कंटेनमेंट जोन बनाया गया है। दूरस्थ के ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण का पांव पसारना इसलिए भी खतरनाक है, क्योंकि यहां स्वास्थ्य सुविधाएं उतनी बेहतर नहीं हैं।

यह भी पढ़ें- बढ़ते संक्रमण को देख पुलिस सख्त, बिना रजिस्ट्रेशन और निगेटिव रिपोर्ट के 45 हजार यात्री भेजे गए वापस

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Raksha Panthri

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट