संवाद सूत्र, साहिया (देहरादून): अनूठी संस्कृति के लिए विख्‍यात जौनसार-बावर की बूढ़ी दीपावली की रंगत और चटख हो गई है। शनिवार को कोरुवा गांव में दीपावली की रंगत देखने लायक थी। पंचायती आंगन में सामूहिक रूप से पारंपरिक लोकनृत्य ने हर किसी को मंत्रमुग्ध किया।

बूढ़ी दीपावली मनाने के लिए खत बमटाड़ के कोरुवा गांव का अंदाज निराला है। पर्व पर पूरे जौनसार में काठ का हिरन व हाथी बनाया जाता है। कोरुवा में नाचते हिरन का पंचायती आंगन में तीन या पांच चक्कर लगाना अनिवार्य होता है।

कोरुवा गांव में सबसे पहले महासू देवता की पूजा-अर्चना की गई। उसके बाद काठ के हिरन को पंचायती आंगन में लाया गया। बूढ़ी दीपावली के जश्न को देखने के लिए दूर-दूर से लोग पहुंचे। ग्रामीण भी पंचायती आंगन में जौनसारी लोक नृत्य को देखकर मंत्रमुग्ध हो गए।

जौनसारी गीतों व लोक नृत्य किए

कालसी ब्लाक की खत बमटाड़ के कोरूवा गांव में ग्रामीण सुबह ही पंचायती आंगन में पंहुचे और जौनसारी गीतों व लोक नृत्य झेंता, रासो, तांदी, हारुल नृत्य किया। इसके बाद सुबह स्याणा ने हिरन को नचाया।

खत स्याणा बुध सिंह तोमर ने बताया कि केवल जौनसार-बावर क्षेत्र के कोरुवा में ही दिन में हिरन नचाते की परंपरा है। हिरन पर बैठे गांव स्याणा बलवीर सिंह तोमर ने हिरन को नचाया।

सदियों से बरकरार है यह प्रथा

यह प्रथा सदियों से बरकरार है। हिरन के साथ चार गोपियां भी नाचती हैं। जब हिरन नाचने लगता है तो जंगल का राजा घेपडू बना पात्र आंगन में अपना शिकार खेलने आता है और लोंगों पर राख फेंककर आतंक फैलाता है। हिरन के पांचवें चक्कर पर घेपडू निशाना साधकर हिरन को घायल कर देता है।

इस दौरान बुध सिंह तोमर, जवाहर सिंह तोमर, हुकम सिंह तोमर, केशर सिंह तोमर, ग्राम प्रधान निशा तोमर, जिला पंचायत सदस्य गीताराम तोमर, कुंवर सिंह तोमर, विक्रम तोमर, गजय सिंह तोमर, महावीर सिंह तोमर, धन सिंह तोमर, पूर्व प्रधान जयपाल सिंह तोमर, मुकेश तोमर, संतन सिंह तोमर, राजेंद्र तोमर, कल्याण सिंह तोमर, संजय तोमर, विरेंद्र तोमर, राजेश तोमर, सुरेन्द्र तोमर, आनंद सिंह तोमर आदि आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें: Chamoli News: 500 वर्ष पुरानी परंपरा है रम्माण उत्सव, UNESCO ने विश्‍व धरोहर सूची में भी किया है शामिल

Edited By: Sunil Negi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट