देहरादून, जेएनएन। हैदराबाद की बेटी के साथ दुष्कर्म और हत्या से देशभर में गम और गुस्से का माहौल है, लेकिन आरोपितों को हैदराबाद पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया। इसके बाद से देशभर में खुशी का माहौल है। दून में भी खुशी की लहर दौड़ पड़ी। आरोपितों के मारे जाने की खबर मिलते ही लोगों ने टीवी और फोन पर घटना पर अपडेट लेना शुरू कर दिया। एनकाउंटर की पुष्टि के बाद दून में कई संगठनों ने मिठाई बांटी। शिक्षण संस्थानों में भी इसे लेकर खुशी मनाई गई। हैदराबाद पुलिस की कार्रवाई को लोगों ने नजीर बताया।

लैंसडौन चौक पर अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने हैदराबाद पुलिस का समर्थन किया। कार्यकर्ताओं ने कहा कि ऐसा अपराध करने वालों के खिलाफ ऐसी कार्रवाई होना जरूरी है। इस दौरान विजेंदर सिंह, कृपाल सिंह, सजीव कुकरेजा, विजय फौजी, मनोज राणा, राजीव कनौजिया, रवि, आकाश समेत अन्य लोग मौजूद रहे।

 

उधर, उत्तराखंड मूल अधिकार सुरक्षा परिषद ने विशेष बैठक आयोजित कर पुलिस की कार्रवाई पर खुशी मनाई। परिषद के प्रदेश अध्यक्ष एचएस राठौर ने कहा कि न्याय प्रणाली को इससे मजबूती मिलेगी। देश की महिलाओं के लिए यह तोहफे की तरह था। परिषद ने उन्नाव में युवती के साथ हुई घटना के आरोपितों के साथ भी ऐसा ही सलूक करने की मांग की। इस अवसर परिषद के संरक्षक डॉ. रामपाल सिंह, कोषाध्यक्ष मनीराम गिरी, महासचिव एसएस चौहान समेत अन्य लोग मौजूद रहे। 

यह भी पढ़ें:  Hyderabad Encounter Case: उमा भारती ने दुष्कर्म और हत्या के आरोपितों के एनकाउंटर पर की तेलंगाना

दिन भर रही चर्चा

दून में पूरे दिन हैदराबाद पुलिस की कार्रवाई की चर्चा होती रही। सरकारी और निजी दफ्तरों से लेकर पार्क, चाय व नाई की दुकानों में भी लोग इस मामले पर चर्चा करते नजर आए। अधिकांश लोग पुलिस की वाहवाही कर रहे थे। वहीं, कई लोग इस पर सवाल उठाते भी नजर आए। उनका कहना था कि इसमें एनकाउंटर नहीं, कोर्ट का फैसला ठीक न्याय होता।

यह भी पढ़ें: नाबालिग से दुष्कर्म मामले में दोषी को 10 साल की सजा Dehradun News

 

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस