जागरण संवाददाता, देहरादून। कोरोना कर्फ्यू के दौरान पुलिस ने घंटाघर पर एक स्कूटी चालक युवती को रोका तो युवती ने पुलिस के साथ अभद्रता शुरू कर दी। युवती न सिर्फ पुलिस से बदतमीजी की बल्कि वहां खड़े व्यक्तियों के लिए भी गलत शब्दावली का प्रयोग किया। नगर कोतवाली पुलिस ने युवती के खिलाफ लाकडाउन का उल्लंघन व सरकारी काम में बाधा डालने का मुकदमा दर्ज कर लिया है।

एसएसआइ नगर कोतवाली लोकेंद्र बहुगुणा ने बताया कि घंटाघर पर अनावश्यक बाहर घूम रहे वाहन चालकों को रोककर उन्हें बाहर निकलने का कारण पूछा जा रहा था। करीब डेढ़ बजे चकराता रोड से स्कूटी सवार एक युवती व युवक को रोककर बाहर घूमने का कारण पूछा तो वह एकदम से आग बबुला हो गई और जोर-जोर से चिल्लाने लगी। युवती ने पुलिस पर संगीन आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस कोरोना के नाम पर जनता को लूट रही है। वह किसी दुकान व घर पर नहीं जा रहे। उसने पुलिस से यह भी कहा कि कर लो तुम्हें जो करना है।

घटनास्थल पर तैनात महिला पुलिसकर्मियों ने उसे समझाने का काफी प्रयास किया लेकिन युवती ने किसी की नहीं सुनी और गाली गलौच करती रही। आखिरकार पुलिस युवती को कोतवाली लेकर गई और उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया। उन्होंने बताया कि युवती की पहचान अंबिका निवासी चाट वाली गली के रूप में हुई है।

सोमवार को भी दो युवतियों ने की थी अभद्रता

इससे पहले सोमवार को भी कार सवार दो युवतियों ने पुलिस से अभद्रता की थी। यहां पर तक पुलिस की वीडियो भी बनाई। पुलिस ने उनका वाहन सीज किया और उन्हें थाने लेकर गई, इसके बाद युवती ने अपनी गलती स्वीकार की और माफी मांगी। इसके बाद पुलिस ने उनके खिलाफ चालान की कार्रवाई की।

यह भी पढ़ें- युवतियों समेत तीन ने घंटाघर में काटा हंगामा, डेढ़ घंटे चला हाई वोल्टेज ड्रामा; पुलिस ने वाहन किया सीज

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें