जागरण संवाददाता, देहरादून। कोरोना कर्फ्यू के दौरान एक वाहन को जब पुलिस ने घंटाघर पर रोका तो वाहन चलाने वाली युवती और उसके साथ हंगामा करने लगे। करीब डेढ़ घंटे चले हाई वोल्टेज ड्रामे के बाद पुलिस कार में सवार दो युवतियों और एक युवक को नगर कोतवाली लेकर गई, इसके बाद उनके वाहन को सीज कर दिया। 

सब इंस्पेक्टर दिनेश कुमार ने बताया कि करीब साढ़े 12 बजे एक वाहन को घंटाघर पर रोका गया। वाहन चला रही युवती से जब कोरोना कर्फ्यू के दौरान बाहर घूमने का कारण पूछा तो वह हंगामा करने लगी। इसके बाद कार एक अन्य युवती व एक युवक भी उतरे और हंगामा व अभद्रता करने लगे। पुलिस ने उन्हें समझाने का काफी प्रयास किया, लेकिन वह नहीं मानें। पुलिसकर्मियों के साथ हुई अभद्रता के दौरान सड़क पर लंबा जाम लग गया। 

काफी देर तक चली बहस के बाद पुलिस कार सवार तीनों को कोतवाली ले आई और उनकी कार को सीज कर दिया। इसके साथ ही पुलिसकर्मियों ने महिलाओं का आपदा उल्लंघन के मामले में चालान भी काटा। कोतवाली पहुंचते ही महिला ने अपनी गलती स्वीकारते हुए पुलिस अधिकारियों से माफी मांगते हुए कहा कि उन्हें यह मालूम था कि 12 बजे के बाद घर से बाहर नहीं निकल सकते हैं, लेकिन वह कुछ सामान खरीदने के लिए बाहर आई थी। इसी दौरान उनकी कार खराब हो गई और उसे ठीक कराने में समय लग गया।

यह भी पढ़ें- Covid Curfew In Rishikesh: कर्फ्यू के उल्लंघन पर वाहनों के खिलाफ अभियान, 22 तिपहिया सीज

 

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें