देहरादून, सुमन सेमवाल। दून की भागदौड़ से दूर कुछ पल सुकून के मिल जाएं तो पूरे हफ्ते हम ऊर्जा से भरे रह सकते हैं। यह सुकून विशुद्ध रूप से प्रकृति की गोद में और महज कुछ किलोमीटर की ही दूरी में मिल जाए तो कहने ही क्या। बेशक दून के चारों ओर ऐसे वन क्षेत्र हैं, मगर उनके आरक्षित होने और सुविधाएं विकसित न होने के चलते वहां जाने की मनाही है। जो कुछ अन्य क्षेत्र हैं कि वहां भीतर तक वाहनों की रेलमपेल और शोरगुल सुकून नहीं लेने देता। ऐसे में यह सुकून दून के पहले फॉरेस्ट सिटी पार्क से मिल सकता है और इसके लिए अधिक इंतजार भी नहीं करना पड़ेगा। क्योंकि नवंबर के इसी माह में झाझरा में यह पार्क शुरू हो जाएगा।

शनिवार को राजपुर नेचर फेस्ट-2019 में यह जानकारी प्रमुख मुख्य वन संरक्षक डॉ. जयराज ने दी। उन्होंने बताया कि आज के दौर में दून में वाहनों का शोरगुल और बढ़ता वायु प्रदूषण तनाव का कारण बन रहा है। लिहाजा, इस बात की सख्त जरूरत महसूस हो रही थी कि दून शहर के पास ही वन क्षेत्र में कोई ऐसा स्थान होना चाहिए, जिसे प्रकृति के मूल स्वरूप को बरकरार रखते हुए सिटी पार्क के रूप में विकसित किया जा सके। खास बात यह है कि यह सामान्य पार्क की तरह नहीं होगा, बल्कि यह समझा जाए है कि वन क्षेत्र के भीतर ही बैठकर या शंतिपूर्ण गतिविधियां करके जीवन को रिफ्रेश किया जा सकता है। इस पार्क में वन क्षेत्र में किसी भी तरह का बदलाव नहीं किया जाएगा। सिर्फ जंगल की हरियाली को अधिक संरक्षित व विशेष प्रयोजन के हिसाब से विकसित कर पार्क का रूप दिया जाएगा। 

50 हेक्टेयर में सुकून के साथ कर सकेंगे विचरण

फॉरेस्ट सिटी पार्क का क्षेत्रफल करीब 50 हेक्टेयर होगा। यह वन क्षेत्र देहरादून वन प्रभाग के झाझरा रेंज के अंतर्गत है और साल के पेड़ों से घिरा है। प्रभागीय वनाधिकारी राजीव धीमान ने बताया कि इन दिनों वन क्षेत्र के ट्रैक दुरुस्त किए जा रहे हैं। ताकि इसमें साइकिल भी आराम से चलाई जा सके।

21 से 25 नवंबर के बीच उद्घाटन

प्रमुख मुख्य वन संरक्षक के अनुसार फॉरेस्ट सिटी पार्क का उद्घाटन 20 से 25 नवंबर के बीच किया जाएगा। इसके लिए तैयारी शुरू कर दी गई है।

इस तरह से खुद को रिफ्रेशन करना चाहते हैं तो आपके लिए है सिटी पार्क

-जंगल के बीच बैठकर ध्यान लगाना।

-साइक्लिंग करना।

-चिड़ियों की चहचहाट सुनकर आनंद उठाना।

-बच्चों के साथ वन क्षेत्र की सैर करना और विभिन्न पक्षियों व तितलियों के दीदार करना।

-वन क्षेत्र में भ्रमण कर विभिन्न प्रजाति के पौधों व वन्यजीवों के बारे में जानकारी जुटाना।

यह भी पढ़ें: तीर्थनगरी ऋषिकेश में नमामि गंगे के काम अधूरे, गंगा को जहरीला बना रहे नाले

नवग्रह व नक्षत्र वाटिका की जा रही तैयार

फॉरेस्ट सिटी पार्क में वन विभाग नवग्रह व नक्षत्र वाटिका का भी निर्माण कर रहा है। इसके साथ ही वन क्षेत्र में वन्यजीव व वनस्पति प्रजातियों की जानकारी भी दर्ज की जाएगी। ताकि लोग सैर करने के साथ ही अपना ज्ञान भी बढ़ा सकें। 

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में 59 साल बाद सामने आएगी भूमि की असल तस्वीर, जानिए कैसे

 

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस