डोईवाला(देहरादून), जेएनएन। हिमालयन इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस(एचआइएमएस) जौलीग्रांट के प्राचार्य ने हिसार हरियाणा निवासी चिकित्सक पिता-पुत्र के खिलाफ डोईवाला कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया है। आरोप है कि बेटे को कोरोना पॉजिटिव होने के बाद भी यह जानकारी छिपाकर नीट पीजी की काउंसलिंग में शामिल हुए। 

डोईवाला कोतवाल सूर्य भूषण नेगी ने बताया कि मेडिकल कॉलेज जौलीग्रांट के प्राचार्य डॉ. डीसी धस्माना ने तहरीर में अवगत कराया 31 जुलाई को मेडिकल कॉलेज में नीट पीजी 2020-21 पाठ्यक्रमों की रिक्त सीटों को भरने के लिए काउंसलिंग कराई गई थी। काउंसलिंग में डॉ. अंकित जैन पुत्र डॉ. सतीश जैन निवासी आकाश हॉस्पिटल नियर बस स्टैंड ऋषिनगर जिला हिसार हरियाणा अपने पिता के साथ काउंसलिंग में आया था। 

यह दोनों व्यक्ति मेडिकल कॉलेज के स्टाफ, मेडिकल छात्र-छात्राओं और काउंसलिंग के लिए आए कई अभ्यर्थियों से मिले। काउंसलिंग की समस्त प्रक्रिया पूरा करने बाद शाम 6.15 बजे डॉ. अंकित के पिता डॉ. सतीश जैन ने प्राचार्य को बताया कि उनका बेटा अंकित कोरोना संक्रमित है और उनका भी सैंपल लिया गया है। इसीलिए अंकित अभी पीजी की कक्षाओं में नही आ पाएगा। उन्होंने इसके लिए 15 दिन की छुट्टी के लिए आवेदन किया था। 

यह भी पढ़ें: Coronavirus: पुलिस मुख्यालय की महिला सिपाही कोरोना पॉजिटिव, आधा दर्जन पुलिस कर्मियों को किया क्वारंटाइन

डॉ. धस्माना ने तहरीर में बताया कि डॉ. अंकित जैन ने कोरोना संक्रमित होने पर भी जानबूझकर इसकी जानकारी संस्थान को नहीं दी। साथ ही काउंसलिंग प्रक्रिया में शामिल होकर संस्थान के स्टाफ, अन्य अभ्यर्थियों और उनके अभिभावकों के जीवन को खतरे में डाला है। पुलिस ने बताया कि तहरीर के आधार दोनों पिता-पुत्र के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ें: LIVE Uttarakhand Coronavirus News Update: देहरादून नगर निगम का हेल्थ इंस्पेक्टर कोरोना संक्रमित, दफ्तर बंद

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस