जागरण संवाददाता, देहरादून। सालों से अतिक्रमण की भेंट चढ़ी पर्यटन विभाग की 0.12 एकड़ भूमि आखिरकार खाली करा दी गई है। भारी विरोध के बीच प्रशासन की डिगर (जेसीबी) अवैध दुकानों पर गरजी। इस दौरान पुलिस को बल प्रयोग कर कार्रवाई में बाधा बन रहे व्यापारियों को खदेड़ा। गांधी रोड स्थित द्रोण होटल की भूमि पर कई साल से अवैध रूप से दुकानें खड़ी थीं। जिस पर पर्यटन विभाग ने वर्ष 2018 में व्यापारियों को दुकान खाली करने का नोटिस दिया। लेकिन, कुल 11 व्यापारी मामले में कोर्ट चले गए और स्टे ले आए। जिसके बाद से मामला उच्च न्यायालय में विचाराधीन था।

पिछले माह ही कोर्ट ने इस पर अतिक्रमण हटाने की स्वीकृति दे दी। जिस पर बीते सप्ताह प्रशासन की ओर से उक्त व्यापारियों को भूमि खाली करने को कहा गया। लेकिन, व्यापारियों ने भूमि खाली नहीं की और सर्वोच्च न्यायालय की शरण में जाने की बात कहने लगे। हालांकि, प्रशासन ने शनिवार को अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई कर दी। 

पहले हंगामा चला फिर जेसीबी

शनिवार सुबह करीब 11 बजे प्रशासन की टीम पुलिस बल के साथ अतिक्रमण हटाने पहुंची। जिस पर संबंधित व्यापारी मौके पर पहुंच गए और कार्रवाई का विरोध करने लगे। देखते ही देखते बड़ी संख्या में लोग एकत्रित हो गए। व्यापारियों और उनके परिचितों ने वहां जमकर हंगामा काटा। एसडीएम सदर गोपाल राम बिनवाल ने व्यापारियों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन वे नहीं माने और जेसीबी के आगे लेट गए।

पुलिस क्षेत्राधिकारी शेखर सुयाल और शहर कोतवाल शिशुपाल नेगी पुलिस बल को मार्ग खाली कराने के निर्देश दिए। इस दौरान पुलिस और व्यापारियों के बीच धक्का-मुक्की भी हुई। सिटी मजिस्ट्रेट कुश्म चौहान ने मौके पर पहुंचकर व्यापारियों को कोर्ट की अनुमति का हवाला देकर समझाने का प्रयास किया। लेकिन, जब व्यापारी नहीं माने तो पुलिस ने लाठियां फटकार कर विरोध करने वालों को खदेड़ा। जिसके बाद जेसीबी से निर्माण ध्वस्त किए गए।

व्यापारी हुआ सड़क पर बेहोश

प्रशासन की कार्रवाई के दौरान एक व्यापारी सड़क पर बेहोश हो गया। पुलिस ने उसे मार्ग से हटाने का प्रयास किया तो अन्य व्यापारियों ने खूब हंगामा काटा। अंत में व्यापारी के होश में आने पर उसे हटा दिया गया।

यह भी पढ़ें-नगर निगम ने देहरादून के पलटन बाजार में अतिक्रमण हटाया, व्यापारियों ने किया हंगामा

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021