देहरादून, राज्य ब्यूरो। देशभर में वन विभाग और निजी स्वामित्व वाले 2454 पालतू हाथियों का डीएनए प्रोफाइल तैयार किया जा रहा है। भारतीय वन्यजीव संस्थान (डब्ल्यूआइआइ) को इसका जिम्मा सौंपा गया है। संस्थान इन दिनों उत्तराखंड के कॉर्बेट और राजाजी लैंडस्केप में मौजूद ऐसे 28 पालतू हाथियों की डीएनए सैंपलिंग में जुटा है। इससे पहले छत्तीसगढ़ में यह कार्य पूर्ण हो चुका है, जबकि मध्य प्रदेश में आंशिक तौर पर। 

संस्थान के निदेशक डॉ. धनंजय मोहन के अनुसार कोशिश ये है कि सालभर के भीतर सभी राज्यों में यह कार्य पूरा हो जाए। इससे पालतू हाथियों का डाटा बेस तैयार होने पर इनकी आयु, आनुवांशिकता समेत अन्य कई बिंदुओं पर जानकारी मिल सकेगी। दरअसल, प्रोजेक्ट एलीफेंट के निदेशक ने इस वर्ष जनवरी में देश के सभी राज्यों को अपने यहां वन विभाग और निजी स्वामित्व वाले पालतू हाथियों की भारतीय वन्यजीव संस्थान के माध्यम से डीएनए सैंपलिंग कराने के निर्देश दिए थे। संस्थान की ओर से भी इस संबंध में राज्यों से ऐसे हाथियों की सूची मांगी गई। 

डीएनए सैंपलिंग का कार्य मार्च से शुरू होना था, लेकिन कोरोना संकट ने इस राह में मुश्किलें खड़ी कर दीं। अनलॉक की प्रक्रिया शुरू होने और यातायात में ढील मिलने के बाद संस्थान के एलीफेंट सेल ने अगस्त से यह प्रक्रिया शुरू की है। संस्थान के निदेशक डॉ. धनंजय मोहन बताते हैं कि इन दिनों उत्तराखंड में कॉर्बेट टाइगर रिजर्व और उससे सटे रामनगर क्षेत्र में मौजूद पालतू हाथियों की डीएनए जांच के लिए ब्लड सैंपल लिए जा रहे हैं। फिर राजाजी टाइगर रिजर्व में सेवाएं दे रहे ऐसे हाथियों की सैंपलिंग की जाएगी। डॉ. धनंजय के अनुसार उत्तराखंड के बाद मध्य प्रदेश समेत अन्य राज्यों में पालतू हाथियों का डीएनए प्रोफाइल तैयार करने के मद्देनजर सैंपलिंग का कार्य किया जाएगा। 

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में दुर्घटनाएं लील रहीं बेजुबानों की जान, नौ साल के आंकड़ों पर डालें नजर

कॉर्बेट में सबसे ज्यादा पालतू हाथी 

उत्तराखंड में कॉर्बेट टाइगर रिजर्व के पास सबसे अधिक 16 पालतू हाथी हैं। इसके साथ ही कॉर्बेट से सटे रामनगर क्षेत्र में निजी स्वामित्व वाले हाथियों की संख्या छह है। इधर, राजाजी टाइगर रिजर्व में छह पालतू हाथी हैं, जिनमें तीन वयस्क और तीन बच्चे शामिल हैं।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में गुलदारों का खौफ, रेडियो कॉलर लगाने को केंद्र से मांगी इजाजत; पांच साल के आंकड़ों पर डालें नजर

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट