डोईवाला, जेएनएन। लच्छीवाला वन रेंज के अंतर्गत मणिमाई मंदिर के समीप हाईवे  क्रॉस करते समय ट्रक की टक्कर से हाथी का बच्चा घायल हो गया। सूचना मिलते ही वन विभाग में हड़कंप मच गया। घायल हाथी के बच्चों को क्रेन की मदद से उठाकर वाहन पर लच्छीवाला रेंज लाया गया। जहां प्राथमिक उपचार के बाद उपचार के लिए चीला हरिद्वार भेज दिया गया है। दुर्घटनाग्रस्त ट्रक को कब्जे में लेने के साथ चालक और परिचालक को हिरासत में ले लिया गया है। 

शनिवार रात एक कंपनी का ट्रक देहरादून के सेलाकुई से मुंबई के भिवंडी जा रहा था। मणिमाई मंदिर के नजदीक जंगल से हाईवे क्रॉस कर रहा हाथी का बच्चा ट्रक से टकरा गया। जबकि उसकी मां सड़क क्रॉस कर गई थी। दुर्घटना की सूचना मिलते ही रेंज अधिकारी घनानंद उनियाल फॉरेस्टर मुनेंद्र डंगवाल आदि टीम के साथ मौके पर पहुंचे। इस बीच कोतवाल राकेश सिंह गुसाईं भी घटना की जानकारी मिलते मौके पर पहुंचे। हाईवे से जाम को भी खुलवाया गया। जंगल में हाथियों की चिंघाड़ भी जारी रही। हाथियों को जंगल में खदेडऩे के लिए वन विभाग को हवाई फायर भी करने पड़े।

क्रेन की मदद से घायल हाथी के बच्चे को लच्छीवाला वन परिसर में लाया गया। इस बीच सूचना मिलते ही मुख्य वन संरक्षक गढ़वाल जीएस पांडे, वन संरक्षक पीके पात्रो, डीएफओ देहरादून राजीव धीमान, उपवन प्रभागीय अधिकारी भारत भूषण मर्तोलिया भी मौके पर पहुंचे। लच्छीवाला वन विश्राम गृह लाए गए हाथी के बच्चे का देहरादून के सीनियर वेटेनरी डॉक्टर राकेश नौटियाल व राजाजी नेशनल पार्क की डॉ. दीप्ति ने उपचार दिया। पशु चिकित्सकों के अनुसार इस हाथी के बच्चे की उम्र लगभग 3 से 5 साल के बीच है। पोर्टेबल एक्स-रे मशीन मंगवाने की कोशिश की जा रही है। फिलहाल  हालत स्थिर बनी हुई है।

रेंज अधिकारी घनानंद उनियाल ने बताया कि ट्रक चालक व क्लीनर को वाहन सहित हिरासत में ले लिया गया है। ट्रक चालक के अनुसार हाईवे में अचानक रात के समय डिवाइडर से जंप करके हाथी का बच्चा अचानक सामने आ गया था। ट्रक के ब्रेक भी फेल हो गए थे। उधर उप वन प्रभागीय अधिकारी भारत भूषण मार्तोलिया ने बताया कि मथुरा से पोर्टेबल एक्सरे मशीन मंगाई गई है। देर रात तक मशीन पहुंच जाएगी। उन्होंने बताया कि घायल हाथी के बच्चे को प्राथमिक उपचार के बाद सुरक्षित लच्छीवाला रेंज से शाम 4 बजे चीला हरिद्वार रेंज भेज दिया गया है। उन्होंने बताया कि हाथी के बच्चे की टांग दुर्घटना में जख्मी हुई है। अंदरूनी चोट किस तरह की है। यह एक्सरे के बाद ही पता चलेगी। 

यह भी पढ़ें: वन विभाग द्वारा कब्जे में ली गई हथिनी की तबीयत खराब, क्रेन से उठाकर किया उपचार

यह भी पढ़ें: झिरना जोन में हाथी को उकसाने के मामले में जिप्सी, चालक व गाइड का प्रवेश प्रतिबंधित

Posted By: Sunil Negi