जागरण संवाददाता, देहरादून। Eid-al-Adha 2021 कुर्बानी का पर्व ईद-उल-अजहा (बकरीद) बुधवार को मनाया जाएगा। उलेमा ने इस बार कोविड गाइडलाइन का पालन कर इस पर्व को सादगी के साथ मनाने की अपील की। इस बार ईदगाह में प्रमुख लोग बकरीद की नमाज अदा करेंगे। शहर की विभिन्न मस्जिदों में सीमित लोग को ही प्रवेश दिया जाएगा।

बकरीद को लेकर शहर में खरीदारी की चहल पहल शुरू हो चुकी है। कपड़े से लेकर खाने-पीने की वस्तु आदि खरीद रहे हैं। ईद किस तरह और कैसे मनाएं, इसको लेकर उलेमा इंटरनेट मीडिया के माध्यम से भी लगातार अपील कर रहे हैं। नायब सुन्नी शहर काजी पीर सैयद अशरफ हुसैन कादरी ने मुस्लिमों से अमन व भाईचारे के साथ इस पर्व को मनाने की अपील की है।

उन्होंने कहा कि यदि कुर्बानी में स्थानीय लोगों और पड़ोसी को आपत्ति हो तो, आसपास के कुर्बानी स्थल पर जाएं। इस दौरान कोविड गाइडलाइन का अवश्य पालन करें। शहर मुफ्ती सलीम अहमद कासमी ने कहा कि ईदगाह व अन्य मैदानी जगहों पर जहां पहले काफी संख्या लोग नमाज पढ़ते थे, इस बार वहां की जगह मस्जिदों में ही सीमित संख्या में नमाज अदा करें। अपनी ओर से किसी को भी शिकायत का मौका न दें, कुर्बानी के वक्त परिसर में साफ- सफाई का विशेष ध्यान रखें।

आज सजेगी बकरों की मंडी

बकरीद में आज का दिन बचा है, ऐसे में विक्रेता भी अपने बकरे की खासियतें गिनवाकर खरीदारों को आकर्षित कर रहे हैं। बकरीद को लेकर आज दून में आइएसबीटी, माजरा व इनामुल्ला बिल्डिंग के पास बकरों की मंडी सजी है। दो वर्ष पूर्व बकरीद से चार दिन पहले खरीदारी की जिस तरह भीड़ रहती थी वह इस बार इस बार देखने को नहीं मिल रही है। आइएसबीटी में सहारनपुर के व्यापारी आसिफ ने बताया कि इस बार खरीदार मोलभाव करने के बाद मंगलवार को बकरा खरीदने की बात कह रहे हैं।

पिछले साल के मुकाबले बकरे महंगे हैं। पिछली बार छोटा बकरा 10 हजार में बिका था, इस बार 15 हजार तक का बिक रहा है। विकासनगर के व्यापारी इमरान ने बताया कि कोरोना संक्रमण के चलते ग्रामीण इलाकों से लोग यहां बकरा बेचने नहीं आ रहे हैं। आमद कम होने से दाम बढ़ गए हैं। इस बार इंटरनेट मीडिया के जरिये भी बकरों की फोटो जारी की थी।

यह भी पढ़ें- रुड़की में सादगी से मनाई ईद, सीमित संख्या में ईदगाह में पढ़ी गई नमाज

Edited By: Raksha Panthri