देहरादून, राज्य ब्यूरो। कांग्रेस महासचिव और पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत से भाजपा के एक पूर्व विधायक समेत कुछ नेताओं की मुलाकात ने अचानक सियासत को गर्मा दिया। हालांकि हरीश रावत ने इसके किसी तरह के सियासी निहितार्थ से इनकार करते हुए इसे महज निजी मुलाकात बताया। 

दरअसल, उत्तरकाशी जिले से भाजपा विधायक रहे मालचंद और पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष जशोदा राणा ने देहरादून में वरिष्ठ कांग्रेस नेता हरीश रावत से मुलाकात की। सियासी गलियारों में इसकी जानकारी सार्वजनिक होते ही कयासबाजी शुरू हो गई है। इस मुलाकात को वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव से जोड़कर देखा जाने लगा है। हालांकि फिर बाद में भाजपा नेताओं ने साफ किया कि यह मुलाकात राजनैतिक उद्देश्यों से नहीं की गई है। 
पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष जशोदा राणा और पूर्व भाजपा विधायक मालचंद से संपर्क करने पर उन्होंने कहा कि दरअसल, वे लोग मशरूम उत्पादन से जुड़ी दिव्या रावत से मुलाकात के लिए देहरादून आए थे। उस वक्त दिव्या रावत हरीश रावत के आवास पर थीं, लिहाजा वे उनसे मुलाकात के लिए रावत के आवास पर ही चले गए थे। जशोदा राणा ने यह भी कहा कि उनका कांग्रेस में जाने का कोई सवाल ही नहीं है। उन्होंने ये भी कहा कि वह भाजपा से आगामी विधानसभा चुनाव में यमुनोत्री सीट से टिकट की दावेदारी कर रही हैं।
उधर, पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने भी कहा कि यह कोई राजनैतिक मुलाकात नहीं थी। गौरतलब है कि पिछले कुछ वर्षों में दो भाजपा विधायक कांग्रेस में जा चुके हैं। ये हैं पूर्व मंत्री मातबर सिंह कंडारी और भीमलाल आर्य। यह बात दीगर है कि ये दोनों ही नेता अब सियासी परिदृश्य में कहीं नजर नहीं आ रहे हैं।
कांग्रेस पर वैमनस्य फैलाने का आरोप 
कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री राजेंद्र भंडारी के सोशल मीडिया में वायरल उस ऑडियो की भाजपा ने भर्त्सना की है, जिसमें कथित तौर पर जातिवादी टिप्पणी की गई है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रमुख डॉ. देवेंद्र भसीन ने इसे समाज में वैमनस्य फैलाने का प्रयास करार दिया। साथ ही कहा कि कांग्रेस नेता द्वारा भाजपा को न जीतने देने संबंधी भी महज कोरा सपना है। 
डॉ. भसीन ने कहा कि पूर्व मंत्री भंडारी का वायरल ऑडियो, कांग्रेस की समाज में वैमनस्य पैदा करने व बांटने की राजनीति का प्रमाण है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा समाज में विभाजन की राजनीति की है और सत्ता हासिल करने को यह पार्टी ऐसे हथकंडे अपनाती रही है। अलबत्ता, अब कांग्रेस की कलई खुल चुकी है और इसी कारण कांग्रेस रसातल की ओर जा रही है। डॉ.भसीन ने कहा कि भाजपा 'सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास' के सिद्धांत पर चलती है। इसीलिए भाजपा आज विश्व की सबसे बड़ी पार्टी है, जबकि कांग्रेस सिमट चुकी है। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस