देहरादून, [जेएनएन]: दून में शुक्रवार को अधर्म पर धर्म, असत्य पर सत्य, बुराई पर अच्छाई का प्रतीक विजयादशमी पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। भगवान राम ने बुराई के प्रतीक रावण का संहार करते हुए उसके, कुंभरकण और मेघनाद के पुतलों को अग्नि के सुपुर्द किया।  विभिन्न जगह पुतला दहन का आयोजन हुआ। इस मौके पर सभी श्रद्धालुओं ने जय श्री राम का उद्घोष करते हुए पूरे वातावरण को राममय बना दिया।

परेड ग्राउंड में दशहरा कमेटी बन्नू बिरादरी की ओर से 71 वें दशहरा महोत्सव पर 60 फुट के रावण का पुतला दहन किया गया। श्री राम जी ने अग्नि बाण से रावण के पुतले की नाभि पर वार कर उसे धराशायी कर दिया। इस मौके पर भक्तों ने श्री राम के जयकारे लगाकर असत्य पर सत्य की जीत का जश्न मनाया। वहीं 55 फुट के कुंभकरण और 50 फुट के मेघनाद के पुतले का भी दहन हुआ।

इससे पूर्व हनुमान जी ने अपनी पूंछ से 50 फुट ऊंची भव्य तीन मंजिला में आग लगाई। लंका दहन का भव्य नजारा देख सभी लोग रोमांचित हो उठे। एक घंटे की आतिशबाजी से आसमान में चारों ओर रंगबिरंगी चमक छायी रही। इससे पहले समिति की ओर से अंसारी रोड स्थित कालिका माता मंदिर से मोती बाजार, पल्टन बाजार, राजपुर रोड, एस्लेहॉल चौक से परेड ग्रांउड तक शोभायात्रा निकाली गई।

 इसमें कालिका माता मंदिर के ब्रह्मलीन हो चुके सर्वदास महाराज की झांकी और राम-लक्ष्मण, हनुमान की झांकी निकाली गई। इसमें संकीर्तन मंडली द्वारा भजनों की प्रस्तुति दी गई। मीडिया प्रभारी संजीव विज ने बताया कि कालिका माता मंदिर सर्वदास महाराज के बह्मलीन होने से इस बार शोभयात्रा में कम झांकियां शामिल की गई हैं। 

इस दौरान मसूरी विधायक गणेश जोशी, राजपुर विधायक खजान दास, कैंट विधायक हरबंश कपूर, भाजपा प्रदेश मंत्री सुनील उनियाल गामा, भाजपा मंत्री उमेश अग्रवाल, बन्नू बिरादरी के प्रधान हरीश बिरमानी, हरजीत सिंह, भारत आहूजा, मनोज साहनी, निशांत जैन आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें: यहां 150 साल की हुई रामलीला, तालाब में होता है लंका दहन; जानिए

यह भी पढ़ें: यूनेस्को की धरोहर पौड़ी की रामलीला, मुस्लिम-ईसाई समुदाय के लोग भी लेते हैं भाग

यह भी पढ़ें: उत्‍तराखंड में एक जनजाति नहीं मनाती थी दीवाली, पहली बार मनेगी नई दिवाली

Posted By: Sunil Negi