जागरण संवाददाता, देहरादून : Durga Puja in Dehradun दुर्गा महोत्सव दून में उल्लास व भक्तिभाव के साथ मनाया जाएगा। एक अक्टूबर से पांडालों में मूर्ति स्थापना होगी, जबकि अष्टमी यानी पांच को परिक्रमा के बाद विसर्जन और सिंदूर खेला होगा। सुबह शाम पूजा के अलावा विभिन्न शहरों से आए कलाकार प्रत्येक दिन रंगारंग प्रस्तुति देंगे। छह

छह जगहों पर सजाए जाते हैं पांडाल

महोत्सव को लेकर भक्तों में उत्साह है। वहीं अयोजक भी तैयारियों में जुट गए हैं। विभिन्न आयोजन समितियों की ओर से मुख्य रूप से दुर्गाबाड़ी मंदिर बिंदाल, माडल कालोनी आराघर, रायपुर, करनपुर, प्रेमनगर समेत छह जगहों पर दुर्गा महोत्सव पर पांडाल सजाए जाते हैं। इसके लिए आयोजक तैयारी में जुट गए हैं।

दुर्गा पूजा का 100वां महोत्सव

बंगाली लाइब्रेरी पूजा समिति करनपुर स्थित बंगाली लाइब्रेरी में दुर्गा पूजा का 100वां महोत्सव उल्लास व भक्तिभाव के साथ मनाएगी। समिति के महासचिव आलोक चक्रवर्ती ने बताया कि लाइब्रेरी में मूर्ति को अंतिम रूप दिया जा रहा है।

  • महोत्सव के तहत शांति निकेतन कोलकाता, श्री ग्रुप दिल्ली के कलाकार सांस्कृतिक प्रस्तुति देंगे। हिंदी में रामायण का मंचन स्थानीय कलाकारों की ओर से किया जाएगा।

स्थानीय कलाकार देंगे सांस्कृतिक प्रस्तुति

उत्तरायण कालीबाड़ी दुर्गा पूजा समिति के संयोजक अधीर मुखर्जी ने बताया कि आराघर स्थित माडल कालोनी में 42वां दुर्गा महोत्सव में स्थानीय कलाकार सांस्कृतिक प्रस्तुति देंगे।

देहरादून दुर्गाबाड़ी समिति के सचिव रमेश मोदक ने बताया कि इस बार दुर्गाबाड़ी मंदिर में महोत्सव भव्य रूप से मनाया जाएगा। पर्यावरण संरक्षण को ध्यान में रखते हुए कोलकाता के कलाकारों ने इको फ्रैंडली मूर्ति तैयार की है।

माता की भक्ति में लीन श्रद्धालु भजनों पर देर रात तक झूमे

शारदीय नवरात्र के दूसरे दिन भक्तों ने मां दुर्गा के ब्रह्मचारिणी स्वरूप की आराधना कर खुशहाली की कामना की। मंदिरों में पूजा, आरती व दुर्गा सप्तशती पाठ हुए। भजन संध्या में माता के भजनों पर भक्त खूब झूमे।

मंगलवार को सहारनपुर चौक स्थित पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर में आयोजित मेला मैया की भजन संध्या में प्रदीप मस्ताना जागरण पार्टी ने तू कितनी भोली है तू कितनी प्यारी है मां, सारा संसार झुके तेरे दरबार, मैया का चोला है रंग लाल, शक्ति दे मां शक्ति दे आदि भजनों की प्रस्तुति दी, जिसपर भक्त खूब झूमे।

मंदिर के दिगंबर दिनेश पुरी ने बताया कि कार्यक्रम बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ को समर्पित है। इसके अलावा निरंजपुर स्थित प्राचीन स्वर्गापुरी मंदिर, दुर्गा मंदिर सर्वे चौक, श्याम सुंदर मंदिर पटेलनगर, माता वैष्णो देवी गुफा योग मंदिर टपकेश्वर में भी भक्तों ने पूजा-अर्चना की। बुधवार को मां दुर्गा के तीसरे स्वरूप चंद्रघंटा की पूजा होगी।

शिवम शर्मा व ग्रुप के भजनों पर झूमे

लक्ष्मण चौक स्थित श्री अभयमठ शक्तिपीठ में चल रहे भव्य नवरात्र पूजन एवं माता की चौकी कार्यक्रम के दूसरे दिन देहरादून के शिवम शर्मा व ग्रुप ने चलो बुलावा आया है माता ने बुलाया है, मां मुरादे पूरी करदे हलुआ बांटूंगी, अंबे है मेरी मां दुर्गे है मेरी मां आदि भजनों की प्रस्तुति दी। बुधवार को हिमाचल के सतनाम सागर व ग्रुप माता का गुणगान करेंगे।

Shardiya Navratri 2022: मां काली के दर्शन मात्र से दूर हो जाते हैं कष्ट, नवरात्र पर यहा उमड़ी श्रद्धलुओं भारी भीड़

Edited By: Sunil Negi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट