ऋषिकेश, [हरीश तिवारी]: प्रदेश की अस्थायी राजधानी से महज 20 किमी की दूरी पर स्थित डोईवाला ब्लॉक का दुधली गांव भविष्य का डिजिटल विलेज कहलाएगा। दुधली निवासी अजय कुमार की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेजी गई पाती इस गांव के लिए सौगात लेकर आई है। पीएमओ ने इस गांव को डिजिटल गांव बनाने का आदेश जारी कर दिया है।
राजकीय इंटर कॉलेज दुधली से इंटर पास कर डीएवी पीजी कॉलेज देहरादून से स्नातक की डिग्री लेने वाले 26 वर्षीय अजय कुमार ने अपने गांव को डिजिटल बनाने का सपना देखा और इसे साकार करने के लिए बीती एक जून को प्रधानमंत्री के नाम पाती भेजी।

पढ़ें- उत्तराखंड के इस लाल ने अमेरिका में जीता 3.4 करोड़ का अवार्ड
पाती में अजय ने डिजिटल गांव के लिए जरूरी सात सुविधाओं की मांग रखी। अब तक शायद ऐसा कम ही हुआ होगा, जब आम आदमी की पाती पर पीएमओ ने तत्काल सुनवाई की हो।

पढ़ें:-समंदर पार गूंजेगी उत्तराखंड के करन की आवाज
प्रधानमंत्री कार्यालय के सेक्शन ऑफीसर आलोक सुमन ने छह जून को पाती मिलते ही इस पर आवश्यक निर्देश जारी कर दिए। पीएमओ से अजय की पाती को पंख लगे और उस पर अमल भी शुरू हो गया।

पढ़ें-महिलाओं के जीवन को 'अर्थ' दे रही उत्तराखंड की पुष्पा

26 जुलाई को अपर जिलाधिकारी देहरादून प्रताप सिंह शाह ने मुख्य विकास अधिकारी को पीएमओ के पत्र पर कार्यवाही के लिए लिखा। 30 अगस्त को केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के सेक्शन ऑफीसर इंदर सैनी ने अजय कुमार को दुधली को डिजिटल गांव बनाने की पत्र से सूचना दी।
बीएसएनएल के एजीएम योजना ने इस पर आठ नवंबर को महाप्रबंधक भारत ब्रॉड बैंड लिमिटेड को पत्र जारी किया। इसमें आधुनिक ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क के लिए टेंडर होने की जानकारी दी गई।

पढ़ें-नशे के खिलाफ आवाज उठाकर महिलाओं के लिए 'परमेश्वर' बनी परमेश्वरी
यह हैं अजय की मांग
-दुधली में सीएचसी की स्थापना
-गांव को ई-ग्राम बनाया जाए
-नेशनल ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क से जोड़ा जाए
-सौ प्रतिशत इंटरनेट और मोबाइल कनेक्टिविटी
-राइंका दुधली में ई-स्मार्ट क्लासेज
-डिजिटल साक्षरता
-ई-लाइब्रेरी की स्थापना

पढ़ें-लाचारी छोड़कर हौसले ने जगाया विश्वास, हारे मुश्किल भरे हालात
ई-विलेज की विशेषता
-बच्चे जब चाहें ऑनलाइन किताबें पढ़ सकेंगे
-डिजिटल लाइब्रेरी में पांच लाख किताबें उपलब्ध
-नेशनल ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क देगा हाई स्पीड इंटरनेट
-गांव में मिलने लगेगी ई-बैंकिंग, ई-कॉमर्स, ई-शिक्षा व ई-चिकित्सा
-कॉमन सर्विस सेंटर खुलेगा, जिससे गांव में ही आधार कार्ड, वोटर कार्ड, जाति, निवास व आय प्रमाणपत्र मिलेंगे
-सीएससी में बिजली-पानी के बिल व एलआइसी की किस्त भी जमा होगी
-सीएससी में आधार कार्ड के माध्यम से ग्रामीण कैश निकाल सकेंगे
-एक व्यक्ति आसानी से एक दिन में बायोमैट्रिक सत्यापन के जरिए पांच हजार रुपये निकाल सकेगा
-भविष्य में दुधली ग्राम पंचायत को फ्री वाईफाई सुविधा भी मिलेगी
PICS: इस भारतीय ने अमेरिका में जीते 3.4 करोड़

Posted By: Bhanu