Move to Jagran APP

Dehradun में बोर्डिंग स्कूल के प्रबंध निदेशक ने पार की बर्बरता की हदें, बच्चों को नंगा कर कमरे में किया बंद; की शर्मनाक हरकत

Dehradun News अभिभावक ने इस संबंध में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी जिलाधिकारी सोनिका उत्तराखंड बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष व सदस्य शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत के अलावा जिला शिक्षा अधिकारी प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री को पत्र भेजा है। उनका आरोप है कि स्‍कूल के प्रबंध निदेशक ने उनके दोनों बच्‍चों को नंगा कर के एक कमरे में बंद कर दिया।

By Sumit kumar Edited By: Nirmala Bohra Published: Wed, 24 Apr 2024 09:23 AM (IST)Updated: Wed, 24 Apr 2024 09:23 AM (IST)
Dehradun News: स्कूल प्रबंध निदेशक पर छात्रों को प्रताड़ित करने का आरोप

जागरण संवाददाता, देहरादून: Dehradun News: रायपुर स्थित साईग्रेस एकेडमी इंटरनेशनल बोर्डिंग स्कूल के प्रबंध निदेशक पर बिहार निवासी अभिभावक ने अपने दोनों बच्चों को शारीरिक व मानसिक रूप से प्रताड़ित करने, तय शिक्षण शुल्क से अधिक फीस लेने, बच्चों के अंकपत्र व प्रमाणपत्र रोकने का आरोप लगाया है।

अभिभावक ने इस संबंध में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी, जिलाधिकारी सोनिका, उत्तराखंड बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष व सदस्य, शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत के अलावा जिला शिक्षा अधिकारी, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री को पत्र भेजा है।

तकरीबन साढ़े नौ लाख रुपये अतिरिक्त शुल्क लिया

बिहार के पटना के खेमनी चक निवासी चंद्रमा प्रसाद सिंह ने पत्र में कहा कि वर्ष 2016-17 में वैभव सिंह का पांचवीं और अमन सिंह का चौथी कक्षा में साईग्रेस एकेडमी इंटरनेशनल बोर्डिंग स्कूल में दाखिला कराया था। इस समय वैभव सिंह 12वीं और अमन सिंह 11वीं में है। दाखिले के दौरान चौथी से 12वीं तक का तय शुल्क डेढ़ लाख रुपये प्रति छात्र हास्टल व अन्य खर्च सहित स्कूल में जमा कराया।

वर्ष 2023-24 सत्र में प्रबंध निदेशक ने तकरीबन साढ़े नौ लाख रुपये अतिरिक्त शुल्क लिया। इसके बाद भी साढ़े आठ लाख रुपये अतिरिक्त शुल्क की मांग की जा रही है। स्कूल प्रबंधन से कई बार आनलाइन भुगतान व कुल शुल्क का विवरण मांगा, लेकिन नहीं दिया गया। अब एकमुश्त किस्त साढ़े आठ लाख की मांग पर अड़े हैं। जिसे नहीं देने पर दोनों बच्चों का स्थानांतरण प्रमाणपत्र, अंकपत्र रोक दिया।

आरोप लगाया कि हास्टल के कमरे में बच्चों के कपड़े उतारकर बंद रखा गया। साथ ही अश्लील हरकत की गई। इस बात को घर में न बताने के लिए धमकाया गया। इस संबंध में एसएसपी, एसपी सिटी, क्षेत्राधिकारी डोईवाला, थानाध्यक्ष रायपुर, वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक रायपुर, चौकी इंचार्ज मालदेवता को 10 अप्रैल को लिखित और 13 अप्रैल को ईमेल से शिकायत भेजी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। मामले की जांच कर आरोपितों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया जाए।

अभिभावक की ओर से स्कूल के खिलाफ शिकायत प्राप्त हुई है। इस मामले की जल्द ही जांच की जाएगी। बच्चों को स्कूल की ओर से प्रताड़ित करने का मामला सही पाया गया तो कार्रवाई की जाएगी।

- प्रदीप कुमार, प्रभारी जिला शिक्षा अधिकारी देहरादून

अभिभावक के आरोप निराधार हैं। चार वर्ष से अधिक समय हो चुका है। अभिभावक ने पूरा शुल्क जमा नहीं कराया। इसके बाद भी स्कूल ने मानवीयता को दर्शाते हुए बीते वर्ष वैभव सिंह को बगैर शुल्क के परीक्षा में बैठने दिया। शुल्क जमा न करना पड़े, इसलिए इस तरह के गलत आरोप लगाकर स्कूल व मेरी छवि को धूमिल करने का प्रयास किया जा रहा है।

- समरजीत सिंह, निदेशक, साईग्रेस एकेडमी इंटरनेशनल बोर्डिंग स्कूल


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.