जागरण संवाददाता, देहरादून। Admission In DAV डीएवी पीजी कालेज की ओर से बीए, बीएससी व बीकाम की दूसरी कटआफ लिस्ट सोमवार को जारी कर दी गई है। लिस्ट में शामिल छात्र-छात्राएं 21 से 24 सितंबर तक प्रवेश ले सकते हैं। डीएवी कालेज के मीडिया प्रभारी डा. हरिओम शंकर ने बताया कि प्रवेश प्रक्रिया आनलाइन ही रहेगी। जिसके लिए डीएवी कालेज की वेबसाइट www.davpgcollege.in पर आवेदन करना है।

यह है कटआफ

बीए प्रथम वर्ष

सामान्य - 73.80 फीसद

ओबीसी- 69.20 फीसद

एससी- 64.60 फीसद

एसटी-72.20 फीसद

बीएससी (पीसीएम)

सामान्य- 83.00 फीसद

ओबीसी- 79.80 फीसद

एससी- 70.00 फीसद

एसटी-77.80 फीसद

बीएससी ( पीएमएस)

सामान्य- 76.40 फीसद

ओबीसी- 64.40 फीसद

एससी -सीट नहीं

एसटी-63.40 फीसद

बीएससी (सीबीजेड)

सामान्य- 77.80 फीसद

ओबीसी- 76.20 फीसद

एससी- 67.80 फीसद

एसटी- 73.00 फीसद

बीकाम प्रथम वर्ष

सामान्य-75.40 फीसद

ओबीसी -64.20 फीसद

एससी 50.80 फीसद

एसटी-61.60 फीसद

डीबीएस में दूसरी मेरिट लिस्ट से 22 तक प्रवेश

डीबीएस पीजी कालेज ने सोमवार को दूसरी मेरिट लिस्ट जारी की। कालेज के प्राचार्य डा.वीसी पांडे ने बताया कि पहली मेरिट लिस्ट में करीब 55 फीसद छात्र-छात्राओं ने दाखिले ले लिए हैं। अब दूसरी मेरिट लिस्ट से 22 सितंबर तक आनलाइन दाखिले लिए जाएंगे।

बीएससी ( पीसीएम)

सामान्य- 88.00 फीसद

ओबीसी- 86.80 फीसद

एससी- 77.00 फीसद

एसटी-86.00 फीसद

बीएससी ( पीएमजी)

सामान्य- 74.67 फीसद

ओबीसी- 48.00 फीसद

एससी- 50.33फीसद

एसटी-59.00 फीसद

बीएससी ( पीएमडी)

सामान्य- 81.00 फीसद

ओबीसी- 76.33 फीसद

एससी- 53.67फीसद

एसटी-सीट नहीं

बीएससी ( सीबीजेड)

सामान्य- 80.37फीसद

ओबीसी- 78.00फीसद

एससी- 70.00 फीसद

एसटी-77.00 फीसद

बीएससी ( बीजेडजी)

सामान्य- 77.00 फीसद

ओबीसी- 74.00 फीसद

एससी- 52.00 फीसद

एसटी-सीट नहीं

बीए प्रथम वर्ष

सामान्य- 77.60 फीसद

ओबीसी- 74.00 फीसद

एससी- 67.40 फीसद

एसटी-75.80 फीसद

गोरा नीम की विशेषता बताती पुस्तक का विमोचन

भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद (आइसीएफआरई) ने गोरा नीम (मेलिया डबिया काव) पर आधारित पुस्तक 'रीसेंट एडवांसेज इन मेलिया डबिया काव' का विमोचन हुआ। यह पुस्तक गोरा नीम की विशेषताओं पर आधारित है।

सोमवार को पुस्तक का विमोचन करते हुए आइसीएफआरई के महानिदेशक एएस रावत ने कहा कि गोरा नीम बहुउद्देशीय पेड़ की प्रजाति है। यह भूमि की उपजाऊ क्षमता को बढ़ाता है और घरेलू लकड़ी की जरूरत को भी पूरी करता है। 

यह भी पढें- उत्तराखंड: 19 माह बाद खुले सरकारी विद्यालय, बच्चों को थर्मल स्क्रीनिंग के बाद प्रवेश; अब निजी स्कूलों को सहमति का इंतजार 

उन्होंने बताया कि गोरा नीम 1800 मीटर तक की ऊंचाई पर उत्तर-पूर्वी व दक्षिणी भाग में पाया जाता है। एक तरह से यह यहां की मूल प्रजाति है। उन्होंने बताया कि परिषद ने इसकी 10 प्रजातियों पर काम किया और इसका पूरा विवरण पुस्तक में है। गोरा नीम के वाणिज्यिक प्रयोग के लिए निजी कंपनी आइटीसी के साथ समझौता भी किया गया है। कुल मिलाकर पुस्तक जानकारी देती है कि गोरा नीम के माध्यम से देश के साथ कृषकों की आर्थिकी में किसी तरह योगदान दिया जा सकता है।

यह भी पढ़ें- शासन के पत्र को दबाकर बैठ गया उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्याल, जानिए पूरा मामला

Edited By: Raksha Panthri