डोईवाला, देहरादून, [जेएनएन]: उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में एक बेटी ने अपने पिता के शरीर को मुखाग्नि देकर रूढ़ियों की परंपरा को तोड़ दिया। सब हतप्रभ थे, लेकिन बेटी ने समाज की परवाह किए बगैर बेटे का फर्ज निभाया।
देहरादून राजस्व विभाग से सेवानिवृत्त नगरपालिका डोईवाला निवासी चमनलाल दत्ता को हृदयघात आने पर हिमालयन हास्पिटल में भर्ती कराया गया था। जहां उपचार के दौरान उनका निधन हो गया।

पढ़ें-लाचारी छोड़कर हौसले ने जगाया विश्वास, हारे मुश्किल भरे हालात
उनकी दो पुत्री हैं। पुत्र द्वारा किए जाने वाले कर्मकांड को उनकी बड़ी बेटी पिंकी दत्ता ने रूढ़ीवादिता से हटकर अंतिम संस्कार की प्रक्रिया पूरी की। स्व. चमनलाल दत्ता के रिश्तेदार ललित बाली ने बताया कि डोईवाला सौंग नदी घाट पर उनकी अंत्येष्टी की गई।

पढ़ें-नशे के खिलाफ आवाज उठाकर महिलाओं के लिए 'परमेश्वर' बनी परमेश्वरी

पढ़ें-महिलाओं के जीवन को 'अर्थ' दे रही उत्तराखंड की पुष्पा

Posted By: gaurav kala

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस