देहरादून, [जेएनएन]: सनातन धर्म इंटर कॉलेज रेसकोर्स बन्नू का मैदान। शाम करीब सात बजे से ही दर्शकों की भीड़ प्रवेश द्वार पर जुटने लगी है। हर किसी को बस आयोजन स्थल में प्रवेश पाने की जल्दी है। पुलिस प्रवेश द्वार पर मोर्चा संभाले हुए है। दर्शकों का उत्साह देखते ही बन रहा है। चारों तरफ गूंज रहा हाई-वोल्टेज साउंड और चकाचौंध भरी लाइटों की रोशनी खुद में कार्यक्रम का समा बांध रही है। ऐसे में पाश्र्व गायिका खुशबू ग्रेवाल की स्टेज पर एंट्री ने धमाल मचा दिया। वीआइपी गैलरी और जनरल गैलरी में खुशबू की प्रस्तुतियों पर दर्शक देर रात तक झूमते रहे।

दैनिक जागरण के डांडिया रास-2018 में खुशबू ग्रेवाल ने हालांकि स्टेज पर प्रस्तुति रात करीब पौने नौ बजे से शुरू की, लेकिन माहौल शाम से ही बन चुका था। कार्यक्रम स्थल पर सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त रहे व किसी को असुविधा न हो, इसका हर तरह से ख्याल रखा गया। रात आठ बजे दर्शकों के हुजूम में वीआइपी गैलरी की सभी सीटें फुल हो गईं और मैदान की खाली जगह भी कम पड़ने लगी। जनरल गैलरी में भी दर्शकों की भीड़ साउंड पर थिरकती नजर आई। 

खुशबू की प्रस्तुति से पहले एंकर आर्यन मिनोचा और दामिनी जुयाल ने दर्शकों के बीच सवाल-जवाब के बाद उन्हें गिफ्ट देकर समां बांधे रखा। रात लगभग पौने नौ बजे जब खुशबू स्टेज पर पहुंचीं तो उन्होंने नवरात्र में माता रानी की कृपा का साभार जताते हुए मां संतोषी के भजन से कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इसके बाद दर्शकों से मुखातिब हो उनकी पसंद पूछी तो जवाब मिला कि शुरुआत गरबा से की जाए। बस फिर क्या था, नॉन-स्टाप प्रस्तुति देते हुए खुशबू ने ऐसा समा बांधा कि हर कोई थिरकने को मजबूर हो गया। 

डांडिया स्टिक के साथ गरबा कर रहीं महिलाओं, युगल और युवाओं का उत्साह देखते ही बन रहा था। चारों ओर से डांडिया स्टिक की खनक गूंज रही थी। खुशबू ग्र्रेवाल के गुजराती मिठास से भरे बॉलीवुड, पंजाबी गानों पर हर कोई थिरकने पर मजबूर हो गया। बच्चे व युवक-युवतियां ही नहीं दंपती भी साथ में थिरकने लगे। हर कोई डांडिया के रंग में डूबा नजर आ रहा था। कार्यक्रम के समापन पर भी वंस-मोर, वंस-मोर की आवाज गूंजती रही।

इनका रहा सहयोग

रियल एस्टेट प्रमोशन नाइट, पैसेफिक गोल्फ स्टेट, बलूनी क्लासेस, कमल ज्वैलर्स, नाइन माउंटेन हीरो, मानस ट्रेडर्स, ट्रीट मिल्क रस, अंतरिक्ष क्लासेस, फ्लाइंग मशीन, रीन्यू हियर प्लास्टिक सर्जरी क्लीनिक, ग्लेन, माया ग्रुप ऑफ कॉलेज, पीटल्स प्ले स्कूल, कैपिटल हाइट्स, ड्रेस पार्टनर ड्यूक, इवेंट पार्टनर रियल हॉस्ट एवं हेड्स अप एंटरटेनमेंट, आउट डोर पार्टनर अडोरन मीडिया पब्लिसिटी, एलआइसी, पंजाब एंड सिंध बैंक, इलाहाबाद बैंक, उत्तराखंड राज्य सहकारी बैंक लि., यूनियन बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, सिंडिकेंट बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, सोनी ऑप्टीकल्स, पुलिस-प्रशासन, नगर निगम, ऊर्जा निगम, स्वास्थ्य विभाग, जल संस्थान। 

डांडिया के सुरों से सराबोर हुआ दून

शारदीय नवरात्र के साथ दैनिक जागरण के 'डांडिया रास-2018' का रविवार शाम दून में भव्य आगाज हुआ। डांडिया की खनक और मशहूर पिंक लिप्स फेम खुशबू ग्रेवाल के गीतों पर दून झूम उठा। कैबिनेट मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत और सुबोध उनियाल ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। 

हजारों की संख्या में पहुंचे डांडिया रसिकों की मौजूदगी में बन्नू स्कूल परिसर देर रात तक गूंजता रहा। सपरिवार मस्ती में झूमते दूनवासी गढ़वाली, गुजराती, पंजाबी और राजस्थानी गीतों पर जमकर थिरके। हाईवोल्टेज साउंड पर गूंजते गरबा के संगीत पर दूनवासी देर रात तक झूमते रहे। इस मौके पर कैबिनेट मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने संगीत का सुरमयी एवं खुशनुमा माहौल बनाने के लिए 'दैनिक जागरण' के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने कहा कि इस प्रकार के कार्यक्रम ऊर्जा का संचार करते हैं। पिछले 17 साल से शारदीय नवरात्र के दौरान 'दैनिक जागरण' भक्ति एवं उल्लास के समन्वय से भरा आयोजन करता आ रहा है। यह अपने-आप में अनूठा एवं आकर्षक है।

देहरादून के लोगों का डांडिया के साथ आत्मीय संबंध जोडऩे का श्रेय 'दैनिक जागरण' को ही जाता है। कहा कि उत्तराखंड में दैनिक जागरण केवल समाचार पत्र ही नहीं, बल्कि सामाजिक विचारधारा है। जागरण ने उत्तराखंड राज्य आंदोलन में अहम भूमिका निभाई। पहाड़ के दूरदराज के क्षेत्र के आंदोलनकारियों की आवाज राष्ट्रीय स्तर पर व संसद तक पहुंचाई। राज्य में जब-जब आपदा आई, मुश्किलों में घिरे लोगों की समस्याओं को भी उजागर किया और उनकी आर्थिक मदद की भी। उन्होंने 1991 के उत्तरकाशी, चमोली और रुद्रप्रयाग में आए विनाशकारी भूकंप को याद करते हुए कहा कि इस दौरान 700 से ज्यादा लोगों की जान गई। तब अपने सामाजिक सरोकारों को निभाते हुए 'दैनिक जागरण' के तत्कालीन प्रधान संपादक स्व. नरेंद्र मोहन उत्तर प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री कल्याण सिंह से मिले थे और कहा था कि जागरण परिवार भूकंप में हताहत हुए प्रत्येक व्यक्ति के परिवार को 20-20 हजार रुपये की आर्थिक मदद देगा। काबीना मंत्री ने कहा कि प्रदेश की 1.25 करोड़ की आबादी को दैनिक जागरण से बड़ी उम्मीदें हैं। इस मौके पर दैनिक जागरण के महाप्रबंधक अनुराग गुप्ता, राज्य संपादक कुशल कोठियाल, वरिष्ठ प्रबंधक मयंक श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे। 

दून के मौसम जैसे खूबसूरत हैं यहां के लोग

दून के लोगों में गजब का उत्साह है। यहां का मौसम जितना खूबसूरत है, उतने ही खूबसूरत यहां के लोग भी हैं। जब ऐसी बेहतरीन ऑडियंस हो तो गाने का मजा भी दोगुना हो जाता है। मैं बार-बार ऐसी पब्लिक के बीच अपनी परफॉर्मेंस देना चाहूंगी। 

पार्श्‍व गायिका खुशबू ग्रेवाल ने कहा कि वैसे तो मुझे हर तरह के गाने पसंद हैं, लेकिन मूलत: पंजाब से होने के कारण पंजाबी गाने मेरी पहली पसंद हैं। बगैर पंजाबी बीट के गीत-संगीत की महफिल में चार-चांद नहीं लगते। उन्होंने कहा कि आज के दौर में टैलेंट को दबाया नहीं जा सकता है। आपके पास अपनी प्रतिभा को दुनिया के सामने रखने के लिए सोशल मीडिया जैसे तमाम प्लेटफार्म हैं। नए कलाकारों को संदेश देते हुए उन्होंने कहा कि आप बस अपनी प्रतिभा पर भरोसा रखें और मेहनत के साथ कदम बढ़ाएं। अगर आप में बात है तो कोई आपको दूसरों के दिलों पर राज करने से रोक नहीं सकता। कहा कि लाइव सिंगिंग के दौरान गाना एक चुनौती है। इसमें पहले पब्लिक से खुद को कनेक्ट करना होता है। लेकिन, इस तरह की गायिकी का भी अलग ही मजा है। उन्होंने डांडिया रास के मंच पर पिंक लिप्स गाकर धमाकेदार एंट्री की। इसके बाद लवयात्री के लेटेस्ट गीत 'रंगीलो तारा', 'घूंघट की आड़ से दिलबर का', 'परी हूं मैं', 'एक और मैं एक तू', 'हंसता हुआ नूरानी चेहरा का मैशअप' गाकर अपनी टीम संग गरबा की शानदार प्रस्तुति दी। उन्होंने कहा कि डांडिया का मजा बिना पार्टनर के अधूरा है, ऐसे लोगों के नाम उन्होंने 'बस एक सनम चाहिए, डांडिया के लिए' पेश कर समां बांध दिया। 

इसके बाद पंजाबी गीतों के मैशअप 'मुंडिया दि कुडियां दी गल बन गई', 'जीने मेरा दिल लूटिया' जैसे गीत गाकर धमाल मचाया। उन्होंने दर्शकों के बीच आकर भी जमकर ठुमके लगाए। साथ ही, कुछ लोगों को मंच पर बुलाकर उन्हें अपने साथ नाचने-झूमने का मौका भी दिया। 

यह भी पढ़ें: यहां होगा देश का पहला मॉडलिंग हंट कम रियलिटी शो, ऐसे करें रजिस्ट्रेशन

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में फिल्म नीति के साथ ही प्रोत्साहन भी जरूरी

Posted By: Sunil Negi