जागरण संवाददाता, देहरादून। Corona Fighters कोरोना को हराना है तो सबसे ज्यादा जरूरी है, खुद को दिमाग से पॉजिटिव बनाए रखना। कोरोना पॉजिटिव होने के बाद खुद को पॉजिटिव रखकर ही इसे आसानी से हराया जा सकता है। साथ ही, सबसे ज्यादा जरूरी है लक्षण पहचानकर सही समय पर अपनी जांच कराएं। कोई भी लक्षण छिपाएं नहीं। क्योंकि जितनी जल्दी जांच होगी, उतनी ही जल्द आप इस बीमारी से रिकवर होंगे।

पूर्व मिस इंडिया और महिला उत्थान एवं बाल कल्याण संस्थान की अध्यक्ष अनुकृति गुसाईं रावत बताती हैं कि हल्का जुकाम होने के कारण मैंने 20 अप्रैल को कोरोना जांच कराई। जांच में मेरी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। रिपोर्ट पॉजिटिव होने के बाद भी मैंने जो सबसे जरूरी चीज की, वह था खुद को पॉजिटिव बनाए रखना। होम आइसोलेशन में रहने के कारण डॉक्टर से राय ली और उनके बताए अनुसार नियमित दवा ली।

पहले दिन से ही एक डायट चार्ट बनाया। जिसका मैंने पूरे 16 दिन नियमित पालन किया। कोरोना सबसे अधिक आपके फेफड़े में अटैक करता है, इसलिए इस समय फेफड़ों को स्वस्थ बनाए रखना बहुत ही आवश्यक है। इसलिए मैने सुबह रोजाना कम से कम आधे घंटे प्राणायम किया। अनुलोम-विलोम रोजाना करना भी लाभदायक रहा। इस दौरान ज्यादा एक्सरसाइज नहीं की। केवल दस मिनट कमरे के अंदर टहलना ही काफी है।

खाने में स्वाद न आने के बावजूद मैंने एक दिन भी खाना खाना नहीं छोड़ा। भोजन में प्रोटीन युक्त चीजों को शामिल किया। शरीर में पानी की कमी न हो, इसलिए समय-समय पर पानी, ओआरएस, नारियल पानी और गर्म पानी में नींबू मिलाकर पिया। अक्सर कोरोना में गला सूख जाता है, इसलिए शरीर में पानी की कमी नहीं होने देनी चाहिए।

सुबह एक बार ग्रीन टी या काढ़ा नियमित रूप से पिया। कोरोना से लड़ने के लिए हल्दी वाला दूध पीना भी बेहद जरूरी है। मैंने खुद को सकारात्मक बनाए रखने के लिए किताबें पढ़ी और अपने पुराने दोस्तों से बातचीत की। नकारात्मक खबरों से खुद को दूर रखा। आप पॉजिटिव रहकर ही कोरोना पॉजिटिव से निगेटिव हो सकते हैं। 

यह भी पढ़ें-Corona Fighters: उत्तराखंड फूड प्रोसेसिंग संगठन के संरक्षक बोले- सकारात्मक रहें, जीत आपकी ही होगी..

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Sunil Negi