देहरादून, जेएनएन। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि निरंजनपुर सब्जी मंडी को यहां से शिफ्ट कर इस भूमि पर दून मेडिकल कॉलेज का विस्तार किया जाएगा। औद्योगिक विकास के लिए सरकार द्वारा बनाए गए लेंडबैंक में सब्जी मंडी शिफ्ट होगी। यह बात मुख्यमंत्री ने शुक्रवार शाम को दून मेडिकल कॉलेज के वार्षिक समारोह फिनिक्स-2019 के समापन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि कही। मुख्यमंत्री ने भावी डॉक्टरों की ओर से दी गई सांस्कृतिक कार्यक्रम की शानदार प्रस्तुत पर प्रसन्ना व्यक्त करते हुए कहा कि मेडिकल के छात्र-छात्राओं ने अपनी लोक संस्कृति को बेहद करीब से परखा है। 

सीएम ने कहा, मुख्यमंत्री प्रतिभा सम्मान योजना के तहत प्रदेश के टॉपर 25 छात्र-छात्राओं की 50 फीसद फीस रिफंड कर दी जाएगी। अगर मेडिकल के छात्र-छात्राएं लगातार चार साल तक टॉपर 25 में अपना स्थान बनाने में सफल होते हैं तो चारों साल उन्हें यह अवसर मिलेगा। उन्होंने बताया कि दून मेडिकल कॉलेज में वर्तमान में केवल 44 स्थायी फैकल्टी हैं, जबकि 197 अस्थायी कर्मचारियों से काम चलाया जा रहा है। उन्होंने मौके पर अपर सचिव स्वास्थ्य जुगल किशोर पंत को निर्देश दिए कि वह दून मेडिकल कॉलेज के अस्थायी कर्मचारियों का प्रपोजल लेकर आएं सरकार शीघ्र स्थायी नियुक्तियों के लिए प्रक्रिया शुरू करेगी। 
मुख्यमंत्री ने दून के शैक्षणिक संस्थानों में देशभर के सभी राज्यों के छात्र-छात्राओं के उच्च शिक्षा ग्रहण करने पर प्रसन्नता व्यक्त की और कहा कि इस साल नौ नवंबर को उत्तराखंड राज्य के 19वें स्थापना दिवस के मौके पर सभी राज्यों के छात्र-छात्राएं 'भारत भारती रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम' में अपने राज्य की लोक संस्कृति प्रस्तुत करेंगे। दून के मंच से देश की सांस्कृतिक एकता का संदेश दिया जाएगा। दून मेडिकल कॉलेज के साथ स्लाटर हाउस को शिफ्ट करने की कॉलेज की मांग पर मुख्यमंत्री ने भरोसा दिलाया कि इस विषय पर अन्य विकल्पों पर विचार किया जाएगा। 
मुख्यमंत्री और अन्य अतिथियों ने कॉलेज की पत्रिका 'द रिदम' का विमोचन भी किया। इस मौके पर दून मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. आयुतोष सयाना, एमएस डॉ. केके टम्टा, प्रो. देश दीपक, संजय गौड़, सुनील जोशी आदि मौजूद रहे। इस दौरान छात्र-छात्राओं ने लोक संस्कृति पर अपनी प्रस्तुति दी। छात्रों की ओर से जागर, नंदा राजजात यात्रा और कई अन्य लोक गीतों की प्रस्तुति दी गई।
जयहरीखाल में आवासीय विद्यालय मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि पौड़ी जिले के जयहरीखाल में सरकार की ओर से एक आवासीय विद्यालय की स्थापना की जा रही है। जिसमें कक्षा छह से 12वीं तक छात्रों को आवासीय शिक्षा-दीक्षा दी जाएगी। इस स्कूल में ऐसे छात्र-छात्रा को प्रवेश मिलेगा जो प्रतिभाशाली हैं, लेकिन उसके परिजन नहीं हैं या परिजन बेहद गरीब हैं। उस मेधावी छात्र के पढ़ाई का पूरा खर्चा सरकार वहन करेगी।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप