राज्य ब्यूरो, देहरादून। प्रदेश में कोरोना संक्रमण की तेज होती दूसरी लहर ने सरकार की चिंता और बढ़ा दी है। कैबिनेट मंत्री डा.हरक सिंह रावत ने स्वीकारा कि राज्य में हालात बहुत खराब हो चले हैं। यदि अभी नहीं संभले तो बाद में दिक्कत और बढ़ सकती है। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम के मद्देनजर गढ़वाल व कुमाऊं रेजीमेंट की मदद ली जा सकती है। इस संबंध में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से आग्रह किया जाएगा।

कैबिनेट मंत्री रावत ने शुक्रवार को मीडिया से अनौपचारिक बातचीत में कहा कि शहरी क्षेत्रों में संक्रमण बढ़ा है तो ग्रामीण क्षेत्र भी इससे अछूते नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकार स्थिति को संभालने के लिए पूरे प्रयास कर रही है, लेकिन यह भी सही है कि कोरोना संक्रमण की रफ्तार में कई गुना इजाफा हुआ है। यह वक्त आंकड़ों के फेर में पड़ने का नहीं, बल्कि पूरी एकजुटता के साथ महामारी से लडऩे का है।

उन्होंने कहा कि यदि हालात नहीं सुधरते हैं तो ऐसे में सेना की मदद ली जा सकती है। इस बारे में वह मुख्यमंत्री और राज्यपाल से चर्चा कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि गढ़वाल और कुमाऊं रेजीमेंट के मुख्यालय उत्तराखंड में हैं। ऐसे में कोविड संबंधी कार्यों को गति देने के लिए स्वास्थ्य व पुलिस-प्रशासन को सहयोग के मद्देनजर इन दोनों रेजीमेंट का सहयोग लिया जा सकता है। उन्होंने कहा कि देहरादून में गढ़ी कैंट स्थित सेना के कोविड अस्पताल का सहयोग लिया जा रहा है। इसके लिए कुछ समय पहले ही रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अनुमति दी थी।

यह भी पढ़ें-भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक बोले- हरीश रावत से सीख लें कांग्रेस नेता

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें