देहरादून, राज्य ब्यूरो। चुनाव प्रचार थमने के बाद अब भाजपा और कांग्रेस दोनों ने ही अपनी जीत के दावे किए। भाजपा का दावा है कि मतदाता दोबारा भाजपा की जीत चाहते हैं। वहीं, कांग्रेस ने दावा किया कि जनता इस बार बदलाव चाह रही है। 

भाजपा को मिलेगी ऐतिहासिक जीत 

भाजपा ने दावा किया कि लोस व विस चुनाव की भांति निकाय चुनाव में भी भाजपा को ऐतिहासिक जीत मिलने जा रही है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने कहा कि मतदाताओं ने भाजपा को पुन: विजयी बनाने का मन बना लिया है। उन्होंने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए कहा कि चुनाव में अपनी हार सुनिश्चित देख कांग्रेस नेता बौखलाकर अनर्गल आरोपों पर उतर आए हैं। 

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष भट्ट ने कहा कि राज्य में भाजपा के पक्ष में लहर है और मतदाता भाजपा को विजयी बनाने का निर्णय ले चुके हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र और प्रदेश सरकारों के विकास के एजेंडे व भ्रष्टाचार पर कड़े प्रहार की नीतियों से प्रभावित उत्तराखंड की जनता, अब निकायों के विकास को भाजपा के साथ खड़ी है। 

उन्होंने कहा कि जो वातावरण दिखाई दे रहा है, उससे साफ है कि भाजपा की विजय ऐतिहासिक होगी। काग्रेस पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि काग्रेस नेताओं को अपनी पराजय का आभास पहले से था और अब उन्हें अपनी हार सुनिश्चित नजर आ रही है। 

इसी के चलते काग्रेस के कई वरिष्ठ नेता अपने प्रत्याशियों के प्रचार में उतरे नहीं, जबकि कुछ ने महज रस्म अदायगी की। उन्होंने कहा कि देहरादून सहित अधिकाश स्थानों में काग्रेस कोई जुलूस या रैली की हिम्मत तक नही जुटा पाई।

कांग्रेस ने किया दावा, बदलाव चाहती है जनता

देहरादून प्रदेश में चुनाव प्रचार के सघन दौरे के बाद और मतदान से एक दिन पहले प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने दावा किया कि निकाय चुनाव को कांग्रेस फतह करने जा रही है। उन्होंने कहा कि पूरे प्रदेश में माहौल पार्टी के पक्ष में है। डबल इंजन का हश्र देख चुकी जनता बदलाव चाहती है। 

चुनाव अभियान से दून लौट रहे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने ये भी दावा किया कि नगर निकाय चुनाव में राज्य का मतदाता भाजपा के खिलाफ मतदान करने जा रहा है। प्रदेश में भाजपा के पौने दो साल के कार्यकाल में कर्ज से परेशान किसान और नोटबंदी व जीएसटी से बेहाल व्यापारी-कारोबारी आत्महत्या को मजबूर हैं। सस्ता खाद्यान्न, चीनी, मिट्टी का तेल गायब हो चुका है। 

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना व गौरा देवी कन्या धन योजना बंद होने से गरीब लोगों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। प्रीतम सिंह ने कहा कि प्रदेश में सरकार नाम की चीज नहीं है। नौकरशाही निरंकुश हो गई है। सरकार का कामकाज और फैसले न्यायालय के माध्यम से हो रहे हैं। 

कहा कि मलिन बस्तियों के नियमितीकरण और नजूल भूमि के मामलों में हीलाहवाली होने से गरीब परिवार भयभीत हैं। घबराहट में भाजपा के नेता, विधायक और मंत्री आचार संहिता का उल्लंघन कर मतदाताओं को प्रभावित करने की कोशिश कर रहे हैं। केंद्र में भाजपा सरकार से राज्य को कुछ हासिल नहीं हो सका है।

यह भी पढ़ें: निकाय चुनाव: थम गया चुनाव प्रचार, मोर्चे पर महारथी तैयार

यह भी पढ़ें: स्थानीय निकाय चुनावः कागज पर कम व्यय दिखा रहे प्रत्याशी

यह भी पढ़ें: निकाय चुनाव में प्रचार के रंगः केतली संग वोटरों को लुभा रहे मोटू-पतलू

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप