मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

देहरादून, जेएनएन। वर्ष 2018 के राज्य खेल पुरस्कार की फाइल पर शासन ने मुहर लगा दी है। खिलाड़ियों को तैयार करने के लिए उत्तराखंड देवभूमि द्रोणाचार्य अवार्ड एथलेटिक्स कोच अनूप बिष्ट को और खेलों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने के लिए उत्तराखंड देवभूमि खेल रत्न पुरस्कार पैरा बैडमिंटन खिलाड़ी मनोज सरकार को दिया जाएगा। 

लंबे समय से अटके 2018 के राज्य खेल पुरस्कार के नामों पर आखिरकार सरकार ने मुहर लगा दी है। हर साल यह पुरस्कार राज्य स्थापना दिवस नौ नवंबर को प्रदान किए जाते रहे हैं। इसके लिए अगस्त 2018 में आवेदन मागें गए थे। 

लंबी प्रक्रिया चलने के बाद दिसंबर में पहले आवेदनों को निरस्त करते हुए जनवरी 2019 में एक बार फिर आवेदन मागें गए थे। इस बीच लोकसभा चुनाव के लिए आचार संहिता लगने से इस पर फैसला नहीं हो सका। अब हाई पावर कमेटी की बैठक में खेल पुरस्कारों के नाम पर मुहर लग गई है। 

सचिव खेल बृजेश कुमार संत ने बताया कि 2018 के राज्य खेल पुरस्कारों के नाम फाइनल हो गए हैं। खेल मंत्री से स्वीकृति लेने के बाद जल्द ही समारोह आयोजित कर इन्हें दिया जाएगा। खेल रत्न के तहत पाच लाख रुपये, ब्लेजर व प्रशस्ति पत्र और द्रोणाचार्य अवार्ड के तहत तीन लाख रुपये, ब्लेजर व प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाता है।

युवा प्रतिभाओं को तराश रहे अनूप बिष्ट 

खेल विभाग में उप क्रीड़ाधिकारी के पद पर तैनात अनूप बिष्ट ओलंपियन रेस वॉकर मनीष रावत जैसी प्रतिभाएं तराशने में जुटे हैं। अनूप ने राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई धावक तैयार किए हैं। उनके तराशे मनीष रावत ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व करने के साथ ही एशियन चैंपियनशिप रजत पदक जीत चुके हैं। 

इसके अलावा युवा एथलीट सूरज पंवार ने अर्जेटीना में हुए यूथ ओलंपिक गेम्स में पाच किमी वॉक में रजत पदक जीता। इसके अलावा रोजी पटेल, मानसी नेगी, मुकेश कुमार, रविंद्र रौतेला, हरीश कोरंगा आदि राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चमक बिखेर रहे हैं। 

परिचय के मोहताज नहीं मनोज 

सरकार रुद्रपुर के बंगाली कॉलोनी निवासी मनोज सरकार को राष्ट्रीय स्तर पर अर्जुन अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है। पैरा बैडमिंटन खिलाड़ी मनोज सरकार किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। 2013 में उन्होंने व‌र्ल्ड पैरा बैडमिंटन चैंपियनशिप में एक स्वर्ण सहित दो पदक जीतकर नाम रोशन किया था। 

यह भी पढ़ें: डीएवी इंटर कॉलेज ने जीता फुटबॉल का खिताब Dehradun News

मनोज का बचपन गरीबी में बीता, लेकिन अपनी दृढ़ इच्छा शक्ति और मेहनत के दम पर उन्होंने मुकाम हासिल किया। अगस्त 2019 में स्विट्जरलैंड में हुई व‌र्ल्ड पैरा बैडमिंटन चैंपियनशिप में मनोज ने डबल्स में गोल्ड और सिंगल्स में कास्य पदक अपने नाम किया।

यह भी पढ़ें: बालक अंडर-16 में डीएवी और बाईचुंग भूटिया फाइनल में Dehradun News

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप