मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

देहरादून, जेएनएन। योग गुरु बाबा रामदेव के करीबी और पतंजलि योगपीठ के महामंत्री आचार्य बालकृष्ण की शुक्रवार दोपहर अचानक तबीयत बिगड़ गई। इससे कुछ देर पहले जन्माष्टमी पर एक भक्त ने उन्हें मिठाई खिलाई थी। उन्हें ऋषिकेश स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में भर्ती कराया गया है। उन्हें 24 घंटे के लिए गहन चिकित्सा निगरानी में रखा गया है। डाक्टरों ने तबीयत बिगडऩे का कारण विषाक्त खाने का सेवन बताया है। डाक्टर फूड प्वाइजनिंग की आशंका से भी इन्कार नहीं कर रहे हैं। साथ ही फिलहाल, उन्हें खतरे से बाहर नहीं मान रहे हैं। एम्स के निदेशक प्रो. रवि कांत ने बताया कि विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम आचार्य बालकृष्ण के उपचार में जुटी है। उनकी अधिकांश चिकित्सा जांच सामान्य हैं। मगर, अभी उन्हें सामान्य होने में कुछ समय लगेगा। 

शुक्रवार दोपहर करीब ढाई बजे मिठाई खाने के बाद आचार्य बालकृष्ण की अचानक बिगड़ गई। उन्हें उपचार के लिए हरिद्वार स्थित भूमानंद अस्पताल ले जाया गया, जहां हालत गंभीर देखते हुए चिकित्सकों ने उन्हें ऋषिकेश एम्स रेफर कर दिया। शाम करीब सवा चार बजे बाबा रामदेव खुद आचार्य बालकृष्ण लेकर एम्स ऋषिकेश पहुंचे। यहां उनका एमआरआइ, ईसीजी व अन्य चिकित्सकीय परीक्षण किया गया और इसके बाद इंटेंसिव केयर यूनिट (आइसीयू) में भर्ती कर दिया गया। 

शाम सात बजे एम्स के चिकित्सा अधीक्षक प्रो. ब्रह्मप्रकाश ने उनका मेडिकल बुलेटिन जारी किया। बताया कि आचार्य बालकृष्ण के कई मेडिकल टेस्ट कराए गए। उनकी अधिकांश मेडिकल रिपोर्ट सामान्य आई हैं। हालांकि, अभी वे बेहोशी की हालत में हैं, मगर उनका कांसेस लेबल धीरे-धीरे बेहतर हो रहा है। उन्होंने बताया कि आचार्य बालकृष्ण को हृदय व मस्तिष्क से संबंधी कोई बड़ी समस्या नहीं है। अभी तक की जांच में यही बात सामने आयी है कि खाने में कुछ विषाक्त सेवन करने से उनकी तबीयत बिगड़ गई। उन्हें फूड प्वाइजनिंग की आशंका से भी इन्कार नहीं किया जा सकता। अगले 12 घंटे महत्वपूर्ण होंगे। चिकित्सा अधीक्षक ने बताया फिलहाल उनके एंजाइम्स व खून के नमूने फॉरेंसिक जांच के लिए भेजे गये हैं, इनकी रिपोर्ट आने में कुछ समय लगेगा। यह रिपोर्ट आने पर सब कुछ स्पष्ट हो जाएगा। 

इधर, देर शाम मीडिया से बातचीत करते हुए पतंजलि योगपीठ के प्रमुख बाबा रामदेव ने बताया कि दोपहर एक भक्त श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की मिठाई लेकर आया था। इसे खाने के बाद ही आचार्य बालकृष्ण की तबीयत बिगड़ने लगी। उन्होंने बताया कि आचार्य की तबीयत में सुधार हुआ है, वह जल्द ही स्वस्थ होंगे।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड के इस आपदाग्रस्त गांव से नहीं हो पाया गर्भवती का हेली रेस्क्यू, मौसम बना बाधक

Posted By: Raksha Panthari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप