जागरण संवाददाता, देहरादून। गंदगी के कारण मरणासन्न हालत में पहुंच चुकी रिस्पना नदी को पुनर्जीवित करने की कवायद सालों से चल रही है, मगर अभी तक ठोस कुछ भी नहीं हो पाया है। हालांकि, पिछले कई माह से जिला प्रशासन भी इस दिशा में आगे बढ़ रहा है और इस कड़ी में जिलाधिकारी डॉ. अशीष श्रीवास्तव ने सोमवार को नदी के विभिन्न स्थलों का निरीक्षण भी किया। उन्होंने देखा कि किन-किन स्थानों से नदी में गंदगी उड़ेली जा रही है। निरीक्षण के दौरान गंदगी पर रोक लगाने के उपायों पर भी मंथन किया गया।

निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी डॉ. श्रीवास्तव ने रिस्पना नदी में गिर रहे 177 नालों को टैप करने की प्रगति भी तलब की। उन्होंने सिंचाई विभाग से चैनलाइजेशन के कार्य करने व पेयजल निगम को सीवर निस्तारण के साथ नालों की टैपिंग के बारे में पूछा। अधिकारियों ने बताया कि टैपिंग के लिए 57 नालों के स्ट्रक्चर तैयार कर लिए गए हैं। एक सप्ताह के भीतर 20 नालों की टैपिंग पूरी कर ली जाएगी। शेष कार्य भी आगामी माह तक पूरा कर लिया जाएगा। वहीं, जिलाधिकारी ने गंदगी फैलाने वाले व्यक्तियों पर सख्ती के साथ जुर्माना लगाने के भी निर्देश दिए। निरीक्षण में मुख्य विकास अधिकारी नितिका खंडेलवाल समेत नगर निगम व पेयजल निगम के विभिन्न अधिकारी उपस्थित रहे।

76 गुना प्रदूषित हो चुकी रिस्पना नदी

राज्य बनने से लेकर अब तक रिस्पना नदी के संरक्षण की दिशा में अपेक्षित काम नहीं हो पाया और नदी अभी भी गंदगी ढोने का जरियामात्र है। रिस्पना नदी में टोटल कॉलीफार्म (विभिन्न हानिकारक तत्वों का मिश्रण) की मात्रा 76 गुना पाई गई है। पीने योग्य पानी में यह मात्रा मोस्ट प्रोबेबल नंबर (एमपीएन)/प्रति 100 एमएल में 50 से अधिक नहीं होनी चाहिए, जबकि यह मात्रा 3800 तक पाई गई है। यहां तक कि जिस फीकल कॉलीफार्म की मात्रा शून्य होनी चाहिए, उसकी दर 1460 एमपीएन/100 एमएल पाई गई। पानी में घुलित ऑक्सीजन (डीओ) की मात्रा नगण्य स्थिति में है और बायोकेमिकल ऑक्सीजन डिमांड (बीओडी) की मात्रा बेहद अधिक है। अन्य कई हानिकारक तत्व भी नदी के पानी में हैं।

रिस्पना नदी की गुणत्ता

तत्व, मानक, उपस्थिति

तेल-ग्रीस, 0.1, 11 से 18

टीडीएस, 500, 740 से 1200

बीओडी, 02, 126 से 144

डीओ, 06 से अधिक, अधिकतम 1.4

लैड, 0.1, 0.54

नाइट्रेट, 20, 388 से 453

टोटल कॉलीफार्म, 50, 1760 से 3800

फीकल कॉलीफार्म, शून्य, 516 से 1460

नोट: टोटल कॉलीफार्म व फीकल कॉलीफार्म की मात्रा एमपीएन/100 एमएल में अन्य मात्रा एमजी/लीटर में है।

यह भी पढ़ें- गंगा की तर्ज पर होगा उत्तराखंड नदी पुनर्जनन प्राधिकरण का गठन

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Raksha Panthri