वाराणसी, जागरण संवाददाता। पिचाश मोचन पर कश्मीरी पंडितों की मोक्ष के लिए त्रिपिंडी श्राद्ध अनुष्ठान की तैयारी सुबह शुरू की गई तो लोगों की जुटान भी श्राद्ध के लिए खूब हुई। आगमन संस्‍था की ओर से आयोजित इस कार्यक्रम में अभिनेता अनुपम खेर भी दोपहर बाद शामिल हुए। कश्मीर में नरसंहार में मारे गए कश्मीरी पंडितों की आत्मा की शांति के लिए काशी में बुधवार को त्रिपिंडी श्राद्ध किया जा रहा है। इसमें कश्मीरी पंडित भी शामिल हुए जिनका प्रतिनिधित्व प्रसिद्ध अभिनेता अनुपम खेर कर रहे हैं।

बुधवार को त्रिपिंडी श्राद्ध का आयोजन पिशाचमोचन कुंड पर सुबह 10 बजे से प्रारंभ हुआ। इसमें दिल्ली, महाराष्ट्र, बिहार, झारखंड, कश्मीर, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश आदि राज्यों से लोग शामिल होने के लिए पहुंचे हैं। त्रिपिंडी श्राद्ध श्रीनाथ पाठक उर्फ रानी गुरु ने संपन्‍न कराया। वहीं अनुष्ठान डा. संतोष ओझा ने पूर्ण कराया। यह आयोजन आगमन सामाजिक संस्था की ओर से आयोजन किया गया।

काशी में बुधवार को कश्मीर में मारे हिंदू परिवारों के मृत आत्माओं शांति के लिए फिल्म अभिनेता अनुपम खेर ने त्रिपिंडी श्राद्ध का अनुष्ठान किया। पिशाच मोचन कुंड पर अनुष्ठान किया गया। आगमन संस्था की ओर से आयोजन किया गया। सड़क मार्ग से लखनऊ से होते हुए काशी पहुंचे अनुपम खेर सीधे पिशाच मोचन कुंड पहुंचे। जहां पहले से ही आगमन संस्था के संतोष ओझा अनुष्ठान की अन्य क्रियाएं सम्पन्न कराई।

रानी गुरु के सानिध्य में कर्मकांडी ब्राह्मणों ने अनुष्ठान को पूरा कराया। कर्मकांड के दौरान अनुपम खेर के मन की भावना मार्मिक थीं। अनुष्ठान के हर आयाम को श्रद्धा के साथ पूरा किया। संतोष ओझा थोड़ा संकोच में थे और औपचारिक तरीके से स्पर्श विधि को अपना कर अनुष्ठान की क्रियाएं पूरी कराना चाहते थे लेकिन अनुपम खेर ने आपत्ति कर दी। खुद अनुष्ठान क्रियाएं करने की मंशा प्रकट की। रानी गुरु ने एक- एक कर सभी विधान पूरा कराया। तीन पिंड बनाये गए थे। फल, फूल, माला के अलावा मान्यता में शामिल अन्य द्रव्य व कंदमूल चढ़ाया गया। अनुपम खेर सफेद कुर्ता पहने थे। गले में ओम लिखा लाल रंग का साफा ओढ़े थे। उनको देखने के लिए पिशाच मोचन लोगों की भीड़ लग गई थी। सुरक्षा के लिए फोर्स लगाई गई थी।

जब अनुष्ठान करा रहे ब्राह्मण को अनुपम खेर ने टोका : अनुष्ठान के दौरान फिल्म अभिनेता अनुपम खेर ने मोबाइल फोन से फोटो खींच रहे एक ब्राह्मण को टोका। कहा कि पहले अनुष्ठान पूरा कर लें। फिर फोटो खींच लीजियेगा।

Edited By: Abhishek Sharma