वाराणसी, जेएनएन। पहली बार एशिया की क्यूएस रैंकिंग -2021 में हिस्सा लेकर आइआइटी बीएचयू 301-350 के ब्लाक में स्थान बनाने में कामयाब रहा। इसमें आइआइटी-पटना व पंजाब विवि को स्थान मिला है। गत दिनों क्यूएस रीजनल की प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार आइआइटी को रिसर्च आउटपुट के मामले में वेरी हाई श्रेणी में वर्गीकृत किया गया है। यह रिपोर्ट कुल 11 पैरामीटर पर आधारित थी। आइआइटी ने पेपर प्रति संकाय में 59 और पेपर प्रति उद्धरण में 212 रैंक प्राप्त किया है, जबकि शैक्षणिक व अनुसंधान प्रतिष्ठा में 251-300 के स्लैब में स्थान मिला है। अन्य पैरामीटर जैसे संकाय-छात्र अनुपात, इंटरनेशनल फैकल्टी आदि में संस्थान को 301-350 के स्लैब में स्थान दिया गया है।

आगे और भी करेंगे बेहतर

इस उपलब्धि पर निदेशक प्रो. प्रमोद कुमार जैन ने कहा कि एनआइआरएफ  रैंकिंग  2020 व क्यूएस रीजनल  रैंकिंग  2021 के परिणाम उत्साहित करने वाले हैं। संस्थान ने साल-दर-साल अपने वैश्विक, राष्ट्रीय और क्षेत्रीय  रैंकिंग  प्रदर्शन में सुधार करने का प्रयास किया है। भविष्य में और बेहतर प्रदर्शन का प्रयास जारी रहेगा।

बीएचयू मेन कैंपस एशियन रैंकिंग में 180वें स्थान पर

बीएचयू के मेन कैंपस को क्यूएस  रैंकिंग  में एशिया के 180वें और भारत के 19वें सबसे बेहतर विश्वविद्यालय के रूप में चयनित किया गया है। शोध के मामले में बीएचयू को उच्च संस्थान की श्रेणी में जगह मिली है। कुल वैश्विक  रैंकिंग  में इसे 800-1000 के स्लैब में शामिल किया है।

Edited By: saurabh chakravarti