सीतापुर : शारदा सहायक पोषक नहर में कुछ ग्रामीणों ने जाल लगाकर डॉल्फिन को पकड़ लिया। यही नहीं, उसे मार भी डाला। काटकर आपस में बांट भी लिया। इस पूरे मामले का इंटरनेट मीडिया पर वीडियो वायरल होते ही वन विभाग के अधिकारी हरकत में आ गए। वन रक्षक कमलेश जायसवाल ने दो नामजद व दर्जन भर अज्ञात के विरुद्ध मुकदमा लिखाया है।

रविवार को दहिरापुर व तकिया सुल्तानपुर के कुछ लोग नहर के 31-32 किमी के बीच पुल के निकट जाल डालकर मछलियां पकड़ रहे थे। नहर में पानी बंद है। पूर्व का पानी स्थिर है। ग्रामीणों के जाल में बड़ी मछली फंसी। इसे कई ग्रामीणों ने मिलकर पानी से बाहर निकाला और उसे बाइक पर बांधकर ले गए। नहर से मछली निकालने और बाइक पर बांधने का वीडियो इंटरनेट मीडिया पर किसी ने वायरल कर दिया। खबर मिली तो रेंजर समर पाल सिंह यादव अपनी टीम के साथ नहर के पुल पर पहुंचे। आसपास मौजूद ग्रामीणों से पूछताछ की। वायरल वीडियो के आधार दहिरापुर गांव के पृथ्वी कुमार और उसके बेटे मिथुन व दर्जन भर अज्ञात ग्रामीणों के विरुद्ध मुकदमा लिखाया। थानाध्यक्ष धर्म प्रकाश शुक्ल ने दहिरापुर से आरोपित पृथ्वी कुमार को गिरफ्तार किया है। उन्होंने बताया, पृथ्वी के बेटे मिथुन की तलाश की जा रही है। इसके अलावा वीडियो से और लोगों को पहचाना जा रहा है। थानाध्यक्ष ने बताया, आरोपितों के विरुद्ध वन्य जीव संरक्षण अधिनियम संरक्षण-1972 के तहत मुकदमा लिखा है। रेंजर समर पाल सिंह यादव ने बताया, वायरल हो रहे वीडियो में आरोपित पृथ्वी कुमार का बेटा मिथुन दिख रहा है।

आए दिन नहर में जाल डालते ग्रामीण

शारदा सहायक पोषक नहर के तकिया सुल्तानपुर गांव के पास पुल (घटनास्थल) हरगांव से करीब 30 किमी दूर है। यहां ग्रामीण आए दिन नहर में जाल डालकर मछली पकड़ते हैं।

अनुसूची-एक का प्राणी है डॉल्फिन

रेंजर समर पाल सिंह यादव ने बताया, मछली बरामद तो नहीं हो पाई है पर वायरल वीडियो में दिख रही मछली डॉल्फिन ही है। इसकी आयु करीब तीन से चार वर्ष की होगी और वजन करीब दो क्विंटल का होगा। रेंजर ने कहा, डॉल्फिन विलुप्त प्राय प्राणी है। डॉल्फिन को वन विभाग ने अनुसूची-एक की श्रेणी में रखा है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप