ग्रेटर नोएडा, जागरण संवाददाता : टीवी पर आने वाले सीरियल कुबूल है को देखकर दादरी के बडपुरा गांव की रहने वाली युवती पायल भाटी ने प्रेमी के साथ मिलकर खुद की मौत का स्वांग रच डाला। पायल ने प्रेमी अजय ठाकुर से खुद की कद काठी से मिलती जुलती युवती हेमा चौधरी (हेमलता चौधरी) का गौर सिटी मॉल के सामने से अपहरण करवाया। इसके बाद बडपुरा गांव में घर पर हेमा चौधरी के हाथ की नस काटकर हत्या कर दी।

परिजन पहचान न सकें; इसके लिए पायल ने हेमा के चेहरे पर सरसों का गर्म तेल डालकर जला दिया और फिर खुद अपने प्रेमी के साथ फरार हो गई। पायल ने यह पूरी साजिश अपने माता-पिता (रविंद्र भाटी और राकेश देवी) की मौत का बदला लेने के लिए रची थी। वह माता-पिता की मौत का जिम्मेदार अपनी भाभी, बुआ के लड़के व भाभी के दो भाइयों को मानती है। पुलिस ने पायल और उसके प्रेमी अजय को गिरफ्तार कर लिया है।

Hema Murder Case: महिला सिपाही हेमा चौधरी बन 19 किलोमीटर तक बाइक पर बैठी, सीन हुआ रिक्रिएट

ग्रेटर नोएडा में इस तरह की दूसरी घटना

पुलिस ने बृहस्पतिवार दोपहर को एक महिला पुलिसकर्मी को हेमा के रूप में बाइक पर बैठाकर पूरी घटना का सीन रीक्रिएट भी किया है। ग्रेटर नोएडा में इस तरह की यह दूसरी घटना है। इससे पहले चंद्रमोहन शर्मा ने भी शादीशुदा होते हुए प्रेमिका से शादी करने के लिए स्वयं की मौत का सारा स्वांग रचा था। पायल भाटी के माता-पिता ने मई में कर्ज से तंग आकर आत्महत्या कर ली थी।

पुलिस ने बताई ये कहानी

हेमा के हत्याकांड का खुलासा करते हुए पुलिस ने पूरी कहानी बताई है। दरअसल, पायल के भाई अरुण की शादी करवाने वाले बिचौलिया सुनील (बुआ का लड़का) ने पांच लाख रुपये पायल के माता-पिता को उधार दिए थे। यह रकम वह चुका नहीं पा रहे थे। सुनील उधारी वापस लेने के लिए उन पर दबाव बना रहा था। तंग आकर उन्होंने आत्महत्या कर ली थी। पायल का मानना था कि बिचौलिया सुनील, भाभी स्वाति व भाभी के दो भाई कौशिंद्र व गोलू की वजह से उसके माता-पिता ने जान दी है।

इन चारों की हत्या करना चाहती थी पायल

अपर पुलिस उपायुक्त (सेंट्रल जोन) साद मियां खान ने बताया कि पायल चार लोगों (बिचौलिया सुनील, भाभी स्वाति, भाभी के दो भाई कौशिंद्र और गोलू) की हत्या करना चाहती थी। इसी वजह से उसने खुद की मौत का स्वांग रचा और पुरुष मित्र अजय को अपने साथ शामिल किया। चारों की हत्या के लिए आरोपी पायल ने एक तमंचा और दस कारतूस तक खरीद लिए थे। उसकी साजिश थी कि चारों की हत्या करने के बाद किसी को भी उस पर शक न हो, इसलिए उसने पहले अपनी ही मौत का ड्रामा रचा, जिससे लोग यह समझें कि पायल मर चुकी है।

12 नवंबर को की हेमा की हत्या, 19 को शादी

पायल और उसके प्रेमी ने अपनी योजना के तहत 12 नवंबर को हेमा का अपहरण कर लिया। इसके बाद उसे लेकर बड़पुरा गांव गए और रात में हेमा की हत्या कर दी। पायल ने अपने कपड़े हेमा को पहना दिए थे। बाद में आरोपी पायल और उसका प्रेमी अजय बुलंदशहर के भूण चौराहे के पास स्थित भीमा कॉलोनी में जाकर किराये पर रहने लगे। दोनों ने 19 नवंबर को आर्य समाज मंदिर में शादी भी कर ली। अजय दो बच्चों का पिता है, इसके बाद भी वह पायल के जाल में फंस गया।

रेरा की कार्रवाई से बचने के लिए बिल्डर कर रहे हैं समझौता, 1060 से अधिक शिकायतों में फोरम करा चुका है समझौता

18 दिन से बेटी को तलाश रहे थे परिजन

हेमा गौर सिटी मॉल स्थित वेन हुसैन के शोरूम में नौकरी करती थी। 12 नवंबर की रात को अचानक उसका गायब हो जाना, बहुत अजीब सी बात थी। परिजनों ने उसे तलाशने की कोशिश की और उसके दोस्तों व जानने वालों से भी पूछताछ की। मूल रूप से हाथरस के सादाबाद की रहने वाली हेमा ग्रेटर नोएडा वेस्ट में सोसायटी में किराये पर रह रही थी। परिजनों ने बिसरख कोतवाली में उसकी गुमशुदगी दर्ज कराई थी। बीते 18 दिन से परिजन उसकी तलाश के लिए इधर-उधर भटक रहे थे। अब जब हेमा की हत्या के राज से पर्दा उठा तो परिजनों के पास अंतिम संस्कार करने के लिए बेटी की लाश भी नहीं है।

सुसाइड नोट देखकर घरवालों ने कर दी पायल की तेरहवीं

खुद की मौत का स्वांग रचने वाली आरोपी पायल ने हेमा की हत्या के बाद घटनास्थल पर एक सुसाइड नोट छोड़ दिया। इसमें उसने लिखा कि मैं पायल भाटी घर में पूड़ी तलने के दौरान गर्म तेल गिरने से बुरी तरह से जल गई हूं। मुझे समाज में कोई पसंद नहीं करेगा, इस वजह से मैं हाथ की नस काटकर जान दे रही हूं। सुसाइड नोट के आधार पर शव को पायल का मानकर घरवालों ने अंतिम संस्कार कर दिया और 21 नवंबर को तेरहवीं भी कर दी।

हेमा के मोबाइल से कॉल करके फंस गए आरोपी

हेमा का अपहरण कर जब अजय उसको बडपुरा ले गया तो वहां डर में अजय का मोबाइल खो गया। अजय ने अपने नंबर पर गलती से हेमा के मोबाइल से कॉल लगा दी। हेमा की गुमशुदगी मामले की जांच कर रही पुलिस को उसके मोबाइल पर अंतिम कॉल अजय की मिली। वहीं से पुलिस को सुराग मिला और मोबाइल बरामद कर मामले का पर्दाफाश कर दिया।

Edited By: Mohammed Ammar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट